भदोही में गरजे मोदी, कहा- महामिलावटियों ने सत्ता को दौलत बढ़ाने का जरिया माना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के भदोही में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर एक रैली को संबोधित किया। इस रैली में पीएम मोदी कांग्रेस के साथ सपा और बसपा गठबंधन पर जमकर हमला बोला। पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में अगर कोई आतंकी हमला होता है तो आपको दुःख होता है।

भदोही: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के भदोही में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर एक रैली को संबोधित किया। इस रैली में पीएम मोदी कांग्रेस के साथ सपा और बसपा गठबंधन पर जमकर हमला बोला।  प्रधानमंत्री ने कहा कि इन महामिलावटी लोगों ने सत्ता को हमेशा अपनी दौलत बढ़ाने का जरिया माना है।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में अगर कोई आतंकी हमला होता है तो आपको दुःख होता है। हमला कश्मीर में हो मगर दुःख भदोही को होता है, हमला कश्मीर में हो लेकिन दिल कन्याकुमारी का रोता है। लेकिन जब उसके जवाब में सर्जिकल स्ट्राइक होता है तो आपको गर्व होता है।

उन्होंने रैली को संबोधित करते हुए अपने अंदाज में कहा कि हमारे इतने पराक्रम हुए, लेकिन किसी देश ने हमारा विरोध किया क्या? किसी देश ने भारत पर कोई प्रतिबन्ध लगाया क्या़? जब आप सही नीयत और नीति से लोगों के हितों में काम करते हैं तो नामुमकिन भी मुमकिन है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि ये भारत की बढ़ती ताकत का ही तो असर है, लेकिन मैं महामिलावट का क्या करूं जो भारत की इस कामयाबी को मानने को ही तैयार नहीं हैं। उन्होंने कहा कि 2-3 दिन पहले ही दुनिया की सबसे बड़ी संस्था ने भारत में सैंकड़ों लोगों की जान लेने वाले गुनहगार आतंकी मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित किया। ये भारत की बढ़ती ताकत का ही तो असर है।

यह भी पढ़ें…अब आसान होगा एक माह में चार धाम यात्रा करना, कर सकते हैं बर्फ के दीदार

पीएम मोदी ने कहा कि महामिलावटी कह रहे हैं कि देश में चुनाव था इसलिए मोदी ने मसूद अजहर पर बैन लगवा दिया। हर चीज को चुनाव के चश्में से देखने की वजह से ही आज कांग्रेस और उसके साथियों की ये हालत हो गई है।

उन्होंने कहा कि 2014 में आपके दिए एक वोट ने भारत को उस ऊंचाई पर पहुंचाने में बहुत बड़ी मदद की है। भदोही की साख कालीन से है, यहां का हर कालीन व्यापारी साख का मतलब क्या होता है इसको भली भांति समझता है। याद करिये हजारों करोड़ के घोटाले, भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़े बड़े आंदोलन। सत्ता के गलियारों में केवल बिचौलियों और दलालों का ही राज चलता था। हर तरफ बेईमानी, भ्रष्टाचार और भाई भतीजावाद की चर्चा रहती थी। आपके इस चौकीदार ने सबकुछ बंद कर दिया है। जब साख अच्छी होती है तो बहुत कुछ आसान हो जाता है।

यह भी पढ़ें…जानिए किसने कहा ‘बोइंग 737 मैक्स’ से यात्रा करने में कभी नहीं हिचकिचाउंगा?

मोदी ने कहा कि व्यापार, कमाई, एक्सपोर्ट सब कुछ हर बात पर साख का असर पड़ता है। जब सिर्फ अपना और अपने परिवार का नहीं बल्कि देश का विकास करने की इच्छाशक्ति के साथ सरकारें चलाई जाती है, तो इसी तरह का परिवर्तन आता है।

उन्होंने कहा कि अगर मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ता हूं तो मेरे गरीब भाईयों के हक के लिए लड़ता हूं। अगर मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ता हूं तो मैं देश के ईमानदारों के लिए एक दीवार बनकर उनकी मदद के लिए लड़ता हूं। हमारा कल्चर है विकास पंथी- जिसके लिए सिर्फ और सिर्फ देश के लोगों का विकास ही सबसे बड़ी प्राथमिकता है, जिसके लिए दल से भी बड़ा देश है।

यह भी पढ़ें…BJP नेता की TMC कार्यकर्ताओं को धमकी, ‘UP से लोगों को बुलाकर कुत्ते की मौत मारूंगी’

पीएम ने कहा कि हमारे देश में आजदी के बाद 4 तरह के राजनीतिक कल्चर चलें – पहला – नामपंथी, दूसरा – वामपंथी
तीसरा- दाम और दमनपंथी, और चौथा है जो हम लाये हैं – विकासपंथी।

उन्होंने कहा कि नामपंथी – जो सिर्फ अपने वंशवादी नेता का नाम जपे। वामपंथी – जो विदेशी विचारधारा को भारत पर थोपने की कोशिश करे। दाम-दमन पंथी -जो धन और बाहुबल की ताकत पर सत्ता पर कब्जा करे।

मोदी ने कहा कि जब बुआ-बबुआ एक दूसरे के कट्टर दुश्मन थे तब उसी दौर में इस जिले का नाम संत रविदास रखा गया था, लेकिन बुआ के बबुआ ने अपने अहंकार में इस जिले के नाम से संत रविदास का नाम हटवा दिया।
अब बुआ अपने उसी बबुआ के लिए वोट मांग रही हैं।

उन्होंने कहा कि आज यहां से मैं पूरे हिंदुस्तान की मुस्लिम बहनों से कहना चाहता हूं कि आज दुनिया के मुस्लिम देशों में भी तीन तलाक की प्रथा नहीं है। हम भी भारत की मुस्लिम महिलाओं को वही अधिकार देना चाहते हैं, जो दुनिया के मुस्लिम देशों में मिला हुआ है।

यह भी पढ़ें…फेसबुक प्रतिबंध के बाद अब ट्रंप ने सोशल मीडिया कंपनियों पर किया हमला

पीएम मोदी ने कांग्रेस और सपा-बसपा गठबंधन पर निशाना साधते हुए कहा कि जब इन्हें सत्ता मिलती है तो ये भर्तियों में भी घोटाला कर जाते हैं, नौजवानों को धोखा देते हैं। जब हमें सेवा का अवसर मिलता है तो हम ग्रुप सी और डी की नौकरियों में इंटरव्यू की परंपरा ही खत्म कर देते हैं।

उन्होंने कहा कि जब इन्हें सत्ता मिलती है तो ये चीनी मिलों को भी कौड़ियों के दाम बेचकर करोड़ों कमा लेते हैं। जब हमें सेवा का मौका मिलता है तो हम बंद पड़ी चीनी मिलों को फिर से चलवाने का प्रयास करते हैं। जब इन्हें सत्ता मिलती है तो ये कोयला घोटाला कर जाते हैं।

उन्होंने कहा कि जब हमें सेवा का मौका मिलता है तो हम हर गरीब के घर में उज्जवला के तहत मुफ्त गैस कनेक्शन पहुंचाते हैं और जब इन्हें सत्ता मिलती है, तो ये गरीब को घर देने में भी भेदभाव करते हैं, वोटबैंक का ध्यान रखते हैं।

पीएम ने कहा कि जब हमें सेवा का मौका मिलता है तो हम सबका साथ-सबका विकास करते हुए हर बेघर को घर देने के लिए काम करते हैं। जब इन्हें सत्ता मिलती है तो ये शहरों और इलाकों को ध्यान में रखकर बिजली की सप्लाई में भेदभाव करते हैं।

उन्होंने कहा कि जब हमें सेवा का मौका मिलता है तो हम सामान्य नागरिक को 24 घंटे बिजली देने का प्रयास करते हैं। जब इन्हें सत्ता मिलती है, ये उत्तर प्रदेश को एंबुलेंस घोटाला, NRHM घोटाला देते हैं। जब हमें सेवा का मौका मिलता है तो हम आयुष्मान भारत शुरू करते हैं, जन औषधि स्टोर खोलते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इन महामिलावटी लोगों ने सत्ता को हमेशा अपनी दौलत बढ़ाने का जरिया माना है। जबकि हमारे लिए सत्ता, देश के लोगों की सेवा का माध्यम रही है। मैं लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहकर आया हूं और गुजरात जैसे समृद्ध राज्य का मुख्यमंत्री रहकर आया हूं। उन्होंने कहा कि पिछले 5 साल से आपने प्रधान सेवक के रूप में काम दिया है। इस व्यक्ति के ऊपर एक दाग लगा है क्या? कहीं कोई संपत्ति का पता चला है क्या? देश को इसके सिवा और क्या चाहिए।

उन्होंने कहा कि सपा-बसपा और कांग्रेस ने हमेशा लोगों को आपस में जात-पात और पंथ के नाम पर भिड़ाकर सिर्फ अपना और अपने परिवार का विकास किया है।