‘मैं भी चौकीदार’ नारे वाले चाय के कपों को लेकर रेलवे दोबारा निशाने पर

काठगोदाम शताब्दी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे एक यात्री द्वारा पेपर कप की तस्वीर के साथ किया गया ट्वीट वायरल होने पर रेलवे ने कहा कि उसने कप हटा लिए हैं और ठेकेदार को दंडित किया है।

Published by SK Gautam Published: March 29, 2019 | 3:17 pm
Modified: March 29, 2019 | 3:30 pm

नयी दिल्ली:  रेलवे एक बार फिर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के आरोपों में घिर गया जब यात्रियों ने शुक्रवार को कहा कि उन्हें जिन पेपर कपों में चाय दी गई उस पर ‘‘मैं भी चौकीदार’’ लिखा था।

काठगोदाम शताब्दी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे एक यात्री द्वारा पेपर कप की तस्वीर के साथ किया गया ट्वीट वायरल होने पर रेलवे ने कहा कि उसने कप हटा लिए हैं और ठेकेदार को दंडित किया है।

ये भी देखें :कांग्रेस ने वोट के लिए हिंदूओं को किया कलंकित, मांगे माफी: अरुण जेटली

ऐसा दावा किया गया कि इन कपों में दो बार चाय दी गई। कप पर विज्ञापन एनजीओ ‘संकल्प फाउंडेशन’ ने दिया था।

कुछ दिन पहले रेलवे पर चुनाव आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीरों वाली टिकटें जारी करने के आरोप लगे थे। बाद में रेलवे ने सफाई दी कि यह ‘‘अनजाने में हुई गलती’’ है।

ये भी देखें :बीजेपी के लिए राम मंदिर है चुनावी मुद्दा: प्रमोद तिवारी

आईआरसीटीसी के एक प्रवक्ता ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘उन खबरों की जांच की गई जिनमें कहा गया कि ‘मैं भी चौकीदार’’ लेबल वाले कपों में चाय दी गई। यह आईआरसीटीसी की बिना पूर्व मंजूरी के किया गया। सुपरवाइजर/पैंट्री प्रभारियों से ड्यूटी में लापरवाही बरतने को लेकर स्पष्टीकरण मांगा गया है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘सेवा प्रदाता पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। इस कदाचार के लिए सेवा प्रदाता को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है।’’

 

(भाषा)