कांग्रेस के मैनिफेस्टो में देशद्रोह कानून खत्म करने के मामले में परिवाद दाखिल, 16 को होगी सुनवाई

अनवरगंज थाना क्षेत्र स्थित फूल वाली गली में रहने वाले पंकज गौड़ ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर परिवाद दाखिल किया है। वादी पंकज गौड़ का कहना है कि राहुल गांधी ने अपने घोषणा पत्र में धारा 124 ए हटाने की बात की है।

कानपुर: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने घोषणा पत्र आईपीसी की धारा 124 ए को ख़त्म करने की बात कही थी। जिसका विपक्षी दलों ने भी खुलकर विरोध किया था। घोषणा पत्र पर किए गए इस वादे को आधार मानते हुए कानपुर के शख्स ने राहुल गांधी पर एमएम 7 की कोर्ट में परिवाद दाखिल किया है। इस मामले की अगली सुनवाई 16 अप्रैल को होनी है।

अनवरगंज थाना क्षेत्र स्थित फूल वाली गली में रहने वाले पंकज गौड़ ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर परिवाद दाखिल किया है। वादी पंकज गौड़ का कहना है कि राहुल गांधी ने अपने घोषणा पत्र में धारा 124 ए हटाने की बात की है।

ये भी पढ़ें— ऑल इंडिया माइनारिटी फोरम फॉर डेमोक्रेसी ने राजनाथ सिंह को दिया समर्थन

जिससे देश की जनता में आक्रोश है ,बल्कि राहुल गांधी पर भी देश द्रोह का मुकदमा कायम होना चाहिए। इन्होने कानून के साथ छेड़छाड़ करने का आश्वासन दिया है। 16 अप्रैल को सभी साक्ष्यो के साथ मुझे पेश होना है।

अधिवक्ता आशीष शर्मा के मुताबिक कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष और प्रधानमंत्री पद के दावेदार राहुल गांधी पर देश द्रोह का परिवाद दाखिल किया गया है। उन्होंने अपने घोषणा पत्र में सेक्शन 124 ए आईपीसी को सत्ता में आने के बाद उसको हटाने या संसोधन करने की बात कही है।

ये भी पढ़ें— ऑल इंडिया माइनारिटी फोरम फॉर डेमोक्रेसी ने राजनाथ सिंह को दिया समर्थन

यह देश द्रोह की श्रेणी में आता है घोषणा पत्र में इस तरह की बातों का व्याख्यान नही करना चाहिए था। उन्होंने मुस्लिम समुदाय का वोट लेने के लिए पाकिस्तान ऐसे देश को समर्थन दिखाने के लिए यह कार्य किया है। यह देश द्रोह के बराबर का अपराध है इस लिए माननीय न्यालय ने इस पर संज्ञान भी लिया। बयान के लिए वादी को 16 अप्रैल को मय दस्तावेज बुलाया है। हमारी मांग है कि इस संबंध में जो कानून में सजा है वो दी जाए।