बंगाल में सियासत तेज: विद्यासागर की प्रतिमा तोड़े जाने पर ममता ने निकाला मार्च

बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज बेलियाघाट से श्यामबाजार तक मार्च निकाला। तो वहीं बीजेपी ने भी ममता के विरोध में मार्च निकाला।

नई दिल्ली: कोलकाता में हिंसा के दौरान समाज सुधारक ईश्वर चंद्र विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा को तोड़े जाने को लेकर भगवा दल पर अपना हमला तेज करते हुए तृणमूल कांग्रेस ने बुधवार को एक वीडियो जारी किया और आरोप लगाया कि ‘‘भाजपा के गुंडों’’ ने प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया।

बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज बेलियाघाट से श्यामबाजार तक मार्च निकाला। तो वहीं बीजेपी ने भी ममता के विरोध में मार्च निकाला। इस दौरान उनके साथ कई मंत्री, नेता और कार्यकर्ता भी थे। कार्यकर्ता हाथों में टीएमसी का झंडा लिए हुए थे। ममता तेज चाल से हाथ जोड़कर मार्च कर रही थीं।

ये भी पढ़ें— अमित शाह की यूपी में गुरूवार को चार रैलियां, गोरखपुर में रोडशो

बंगाल में आखिरी चरण के मतदान से पहले गृह मंत्रालय ने चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखी है। गृह मंत्रालय ने कहा है कि बंगाल में चुनाव के दौरान 700 CAPF की कंपनियां लगाने की अपील की है। मंत्रालय की तरफ से अमित शाह के रोड शो में हुई हिंसा का भी जिक्र किया गया है।

तृणमूल कांग्रेस ने वीडियो जारी करके भाजपा पर विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ने का आरोप लगाया

तृणमूल कांग्रेस के एक संसदीय दल ने इस मुद्दे पर चुनाव आयोग से मुलाकात की और अपने दावा के समर्थन में “साक्ष्य” सौंपे। इस दल में डेरेक ओब्रायन, सुखेंदु शेखर राय, मनीष गुप्ता और नदीमुल हक शामिल थे। इससे पहले, तृणमूल कांग्रेस नेता डेरक ओ ब्रायन ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, “वीडियो न सिर्फ स्पष्ट रूप से यह स्थापित करता है कि भाजपा ने क्या किया बल्कि यह भी साबित करता है कि उसके प्रमुख अमित शाह झूठे और धोखेबाज हैं।”

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा राज्य में टीएमसी पर हिंसा में शामिल होने और निर्वाचन आयोग के ‘‘मूक दर्शक’’ बने रहने का आरोप लगाए जाने के बाद बंगाल में सत्ताधारी पार्टी की तरफ से यह प्रतिक्रिया आई है। तृणमूल नेता ने कहा, “कोलकाता की सड़कों पर गम और गुस्सा पसरा है। कल जो हुआ उसने बंगाली गौरव को आहत किया।” उन्होंने कहा कि तृणमूल चुनाव आयोग को कई वीडियो सौंपेगी। वह उनके प्रमाणिकता स्थापित कर रही है।

ये भी पढ़ें— PMKVY संचालक रोजगार सिखाते सिखाते सीख लिया नकली नोट छापना

इन वीडियो में से एक में नजर आ रहा है कि लोगों का एक समूह कथित रूप से विद्यासागर कॉलेज का गेट तोड़ने की कोशिश कर रहा है और दीवार फांदकर परिसर में घुसने की कोशिश कर रहा है। ओब्रायन ने कहा कि उनकी दलीलों के पक्ष में पार्टी के पास 44 ऐसे वीडियो हैं। उन्होंने कहा, “यह पूछना बचकाना है कि दरवाजे की चाभी किसके पास थी? वीडियो बिना किसी शक के यह स्थापित करता है कि किसने प्रतिमा का अपमान किया।”

पार्टी ने एक वीडियो और वाट्सअप संदेश भी दिखाए जो कथित रूप से एक भाजपा समर्थक का भेजा है। इसमें कथित भाजपा समर्थक लोगों से तृणमूल कांग्रेस और पुलिस से लड़ने के लिये अमित शाह के रोडशो में रॉड और हथियारों के साथ आने को कह रहा है। ओब्रायन ने कहा, “हम हिंसा के दौरान लगाए गए ‘विद्यासागर खत्म, जोश कहां है’ जैसे नारों की आवाज हासिल करने और उनके प्रमाणीकरण का प्रयास कर रहे हैं।”

ये भी पढ़ें— कमल हासन ने कहा,जो ऐतिहासिक सच था बस वही कहा

उन्होंने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में केंद्रीय बल लोगों से भाजपा के पक्ष में वोट करने के लिये कानाफूसी अभियान चला रहे हैं। अमित शाह के रोडशो के दौरान मंगलवार को कोलकाता में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों में झड़प हो गई थी। अमित शाह को इस दौरान कोई चोट नहीं आई लेकिन उन्हें रोड शो बीच में ही बंद करना पड़ा और पुलिस ने उन्हें वहां से सुरक्षित निकाला था।