मायावती ने कहा गले के नीचे नहीं उतर रहे चुनाव परिणाम

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने लोकसभा चुनाव परिणामों पर एक बार फिर ईवीएम पर सवाल उठाया और कहा कि बसपा का कुछ सीटें जीतना  पहले से ही सोची-समझी साजिश है कि कुछ सीटों पर ई.वी.एम. में गड़बड़ी न की जाये जिससे कि परिणाम पूरी तरह से प्रभावित होता हुआ नजर ना आये।

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने लोकसभा चुनाव परिणामों पर एक बार फिर ईवीएम पर सवाल उठाया और कहा कि बसपा का कुछ सीटें जीतना  पहले से ही सोची-समझी साजिश है कि कुछ सीटों पर ई.वी.एम. में गड़बड़ी न की जाये जिससे कि परिणाम पूरी तरह से प्रभावित होता हुआ नजर ना आये। चुनावी परिणाम पूरी तरह से जनता के गले के नीचे से नहीं उतर रहे है, जिसे सहन करना उसके लिए असंभव भी है।

यह भी पढ़ें…..लोकसभा चुनाव 2019 : बॉलीवुड सितारों ने दी मोदी को प्रचंड जीत की बधाई

उन्होंने कहा कि  ई.वी.एम. के बजाए बैलेट पेपर से चुनाव कराने की लगभग सभी विपक्षी पार्टियों की मांग को ना तो भाजपा खुद मान रही है और ना ही चुनाव आयोग को मानने दे रही है। उन्होंने कहा कि  543 सीटों में से 162 लोकसभा की सीटों पर करोड़ों ग़रीबों व मेहनतकश लोगों ने नरेन्द्र मोदी सरकार के ख़िलाफ काफी डटकर चुनावी लड़ाई लड़ी है। साफ हो गया है कि पूरे देश में अब मोदी सरकार को लोकसभा आमचुनाव में ना तो पूर्ण बहुमत मिलेगा और ना ही इनकी सरकार दोबारा बन पायेगी।

यह भी पढ़ें…..मोदी सुनामी: चौकीदार को सेवा विस्तार

उन्होंने कहा कि ईवीएम का लगातार विरोध हो रहा है और आज आये नतीजों के बाद से अब जनता का इस पर से काफी कुछ विश्वास ही ख़त्म हो जायेगा ।  इस मामले में अधिकतर पार्टियांे का चुनाव आयोग व भाजपा को यह कहना रहा हैं कि वह ईवीएम के बजाए बैलेट पेपर से ही चुनाव कराए तो फिर चुनाव आयोग व बीजेपी को भी इस पर आपत्ति क्यों होती है?

यह भी पढ़ें…..गौतम गंभीर ने लोकसभा सीट से जीत के बाद अरविंद केजरीवाल पर साधा निशाना

मायावती ने कहा कि  देश बड़ी मायूसी के साथ यह देख रहा है कि उच्च पदों व संस्थानों में बैठे लोग किस प्रकार से सत्ता के आगे नतमस्तक हो जाते हैं जिसका ख़मियाजा आखिर में देश की उन करोड़ों जनता को भुगतना पड़ता है। जिनके हित की चैकीदारी व रखवाली के लिए इन संस्थाओं को संविधान ने जन्म दिया है।