चुनाव का चौथा चरण: आपराधिक मामलों में साक्षी महराज पहले स्थान पर

चौथे चरण के विश्लेषण में निकलकर आया कि तीसरे चरण के सापेक्ष आपराधियों के प्रतिशत में 1 प्रतिशत की बढोत्तरी हुई है, शैक्षणिक योग्यता में अन्य तीन चरणों के सापेक्ष बढोत्तरी देखने को मिली हैं।

लखनऊ: यूपी में लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में आपराधिक मामलों में सबसे अधिक मामले उन्नाव से चुनाव लड रहे भाजपा उम्मीदवार साक्षी महाराज के हैं। जबकि सम्पत्ति के मामले में भी भाजपा के उम्मीदवार झांसी के अनुराग शर्मा हैं।

एडीआर/यू0पी0 इलैक्शन वॉच ने लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में 13 लोकसभा क्षेत्र अकबरपुर, इटावा, हमीरपुर, खीरी, शाहजहांपुर, कन्नौज, फर्रूखाबाद, हरदोई, उन्नाव, जालौन, कानपुर, झांसी, मिश्रिख में चुनाव लड रहे 152 प्रत्याशियों में से 145 उम्मीदवारों के शपथ पत्र का विश्लेषण किया।
उत्तर प्रदेश लोकसभा चुनाव 2019 के चौथे चरण में 18 (12 प्रतिशत) महिला उम्मीदवार चुनाव लड रही है।

ये भी पढ़ें—LIVE: दो घंटे की देरी से शुरू होगा प्रधानमंत्री मोदी का रोड शो

चौथे चरण में उम्मीदवारों द्वारा घोषित अपराधिक मामलों में स्वामी सच्चिदानंद हरी साक्षी पहले स्थान पर है, जो उन्नाव से भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी है। दूसरे नम्बर पर उदय पाल सिंह जो फरूखाबाद से प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया से उम्मीदवार है, तीसरे नम्बर पर आलोक कुमार कानपुर से सभी जन पार्टी से उम्मीदवार है।

चौथे चरण के विश्लेषण में निकलकर आया कि तीसरे चरण के सापेक्ष आपराधियों के प्रतिशत में 1 प्रतिशत की बढोत्तरी हुई है, शैक्षणिक योग्यता में अन्य तीन चरणों के सापेक्ष बढोत्तरी देखने को मिली हैं। चुनाव आयोग, सुप्रीम कोर्ट एवं सामाजिक संगठनों के तमाम प्रयासों के बाद भी बाहुबली और धनबलियों के प्रतिशत में गिरावट नहीं आ रही है, जो लोकतंत्र के लिए घातक है।

ये भी पढ़ें—बीजेपी ने हमेशा जातिवाद की राजनीति की है: मायावती

145 उम्मीदवारों में से 31 (21 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किये है जिनमें से 26 उम्मीदवारों (18 प्रतिशत) ने अपने ऊपर गम्भीर आपराधिक मामले घोषित किये है। स्वतंत्र उम्मीदवारों में 7 प्रतिशत, 58 प्रतिशत भारतीय जनता, 17 प्रतिशत कांग्रेस, 38 प्रतिशत प्रगतिशील समाजवादी लोहिया पार्टी, 33 प्रतिशत बीएसपी, 43 समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों ने अपने ऊपर गम्भीर आपराधिक मामले घोषित किये है।
145 में से 57 उम्मीदवार (39 प्रतिशत) उम्मीदवार करोडपति है, बीजेपी के 100 प्रतिशत, कांग्रेस के 92 प्रतिशत, बसपा-सपा के 86 प्रतिशत, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के 88 प्रतिशत, निर्दलीय 19 प्रतिशत उम्मीदवार करोडपति है। झांसी संसदीय क्षेत्र से बीजेपी के प्रत्याशी अनुराग शर्मा अधिकतम सम्पत्ति वाले स्थान पर पहले नम्बर पर है, जिनकी सम्पत्ति 124 करोड से अधिक हैं।

उन्नाव से कांग्रेस पार्टी की उम्मीदवार अनु टण्डन दूसरे स्थान पर है जिनकी सम्पत्ति 81 करोड से अधिक है। तीसरे नम्बर कानपुर संसदीय क्षेत्र से शिवसेना के उम्मीदवार बलवीर सिंह चंदेल 66 करोड से अधिक है। 6 उम्मीदवारों ने अपना पैन घोषित नहीं किया है, 08 उम्मीदवारों ने अपनी वार्षिक आय 50 लाख से ज्यादा घोषित की है।

ये भी पढ़ें—नमो के रंग में रंगा बनारस, जगह-जगह मोदी के स्वागत के तैयारी की देखें शानदार तस्वीरें

सबसे कम सम्पत्ति वाले उम्मीदवार वंदना गुप्ता भारतीय शक्ति चेतना पार्टी की खीरी संसदीय क्षेत्र से उम्मीदवार है जिनकी कुल सम्पत्ति मात्र 17000 रूपये है, हरदोई संसदीय क्षेत्र निर्दलीय से भैया लाल जिनकी सम्पत्ति कुल 20500 है, तीसरे नम्बर पर मिश्रिख संसदीय क्षेत्र से राष्ट्रवादी श्रमजीवी दल के नरेन्द्र कुमार है जिनकी सम्पत्ति 40000 रूपये है।

37 प्रतिशत उम्मीदवारों ने अपनी शैक्षणिक योग्यता 5वी से 12वी के बीच घोषित की है। जबकि 61 प्रतिशत उम्मीदवारों ने अपनी योग्यता स्नातक या उससे ज्यादा घोषित की है। जबकि दो उम्मीदवारों ने अपनी योग्यता निरक्षर घोषित की है, दो उम्मीदवारों ने अपनी योग्यता साक्षर घोषित की है। 61 प्रतिशत उम्मीदवारों ने अपनी आयु 25 से 50 वर्ष के बीच घोषित की है जबकि 38 प्रतिशत उम्मीदवारों न अपनी आयु 50 से 80 वर्ष के बीच घोषित की है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App