लोकसभा चुनाव: शिवपाल की पार्टी ‘प्रसपा’ ने जारी किया घोषणापत्र

2019 लोकसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव अपनी पार्टी का घोषणा पत्र जारी किया। प्रसपा ने अपने घोषणा पत्र में किसान, मुसलमान व गरीबों पर खास फोकस किया है।

लखनऊ: 2019 लोकसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव अपनी पार्टी का घोषणा पत्र जारी किया। प्रसपा ने अपने घोषणा पत्र में किसान, मुसलमान व गरीबों पर खास फोकस किया है।

घोषणा पत्र जारी करने के बाद मीडिया से बातचीत में शिवपाल यादव ने कहा कि हमारा घोषणा पत्र देश को नई दिशा देगा। इस घोषणा पत्र ही से ही देश प्रगति करेगा और समाजवाद आएगा।

यह भी पढ़ें…जम्मू कश्मीर में 919 ‘अपात्र व्यक्तियों’ की सुरक्षा वापस ली गई : गृह मंत्रालय

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) अशफाक उल्ला खान, पंडित रामप्रसाद बिस्मिल, चन्द्रशेखर आजाद, भगत सिंह जैसे शहीदों के सपनों एवं महात्मा गांधी, राम मनोहर लोहिया जैसे राष्ट्रनायकों के सिद्धान्तों के अनुरूप शोषण विहीन समतामूलक, सामाजिक न्याय पर आधारित समृद्ध समाज तथा वर्तमान व आने वाली पीढ़ी के लिए बेहतर भारत के नवनिर्माण हेतु पूर्णतया प्रतिबद्ध है।

यह भी पढ़ें…लोकसभा चुनाव: सिक्किम की हैं ये प्राथमिकताएं, जनता ने सरकार को दिए इतने नंबर

साथियों, प्रसपा महान समाजवादी चिंतक लोहिया जी के इस विचार से पूर्णतया सहमत है कि सामाजिक न्याय की लड़ाई तब तक अपने अंजाम तक नहीं पहुंच सकती जब तक समाज के अंतिम पायदान पर खड़े गरीब से गरीब व्यक्ति के जीवन में भी खुशहाली न आ जाए।

1- कृषि सुधार, किसान आयोग का गठन।
2- औद्योगिक सुधार, श्रम आधारित उद्योगों को संरक्षण।
3- मुसलमानों, अल्पसंख्यकों की सुरक्षा व सम्मान।
4- युवा, उच्च शिक्षा व रोजगार।
5- सामाजिक न्याय का तार्किक विस्तार।                                                                                                                                                                                          6- वरिष्ठ नागरिकों, वंचित, दिव्यांग नागरिकों की सामाजिक सुरक्षा व पेंशन नीति
प्रसपा लोककल्याणकारी राज्य व्यवस्था के लिए कटिबद्ध है और वंचित, दिव्यांग व वरिष्ठ तथा वयोवृद्ध नागरिकों के लिए पेंशन की व्यवस्था करेगी।
7- सभी संविदाकर्मियों के लिए स्थायी सेवा।
8- प्राथमिक शिक्षा व स्वास्थ सुविधाओं को हर नागरिक के लिए सुगम,सुलभ, निःशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा।
9- अंतराष्ट्रीय मोर्चे पर सरकार पूर्णतया विफल रही है। विदेश नीति की नाकामी की निशानी है कि हमारे सम्बन्ध अपने मित्र देशों से भी खराब हो गये हैं, या पहले जैसे नहीं रहे। वैदेशिक नीति में राष्ट्रहित सर्वोपरि रखते हुए सभी देशों से बेहतर सम्बन्ध की नीति अपनाई जाएगी। साथ ही पाकिस्तान और चीन के कब्जे में लाखों वर्गमील जमीन चली गयी, उसे वापस लेने के लिए ठोस कार्यवाही की जाएगी।
10-धार्मिक पर्यटन विकास