लोकसभा चुनाव के लिए तैयार बनारस की ‘स्पेशल-124’, बवालियों की लेगी खबर

सीआरपीएफ ने अपने कड़े अनुभव के आधार पर उन्हें ट्रेंड किया है। इन्हें हर तरीके से ट्रेंड करते हुए यह विशेष ट्रेनिंग दी गई है क़ी ये विकट से विकट परिस्थितियों में भी सामने वाले शत्रु के ऊपर कहर बनकर टूट पड़ें।

वाराणसी: पुलिस ने स्मार्ट पुलिसिंग की ओर एक और कदम बढ़ाया है। स्पेशल फोर्सेज की तर्ज पर अब वाराणसी पुलिस ने अपने जवानों को प्रशिक्षित करना शुरू कर दिया है।

वाराणसी पुलिस ने स्पेशल क्यूआरटी का गठन किया है, जो किसी भी हालात पर तत्काल काबू पायेगा। इस टीम को नाम दिया गया है स्पेशल-124। इस ग्रुप के जवानों ने शनिवार को पुलिस लाइन में मॉक ड्रील कर अपने हुनर की नुमाइश की।

ये भी पढ़ें— गुजरात में करीब 16 प्रतिशत उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले: एडीआर

सीआरपीएफ ने दी है खास ट्रेनिंग

खासतौर से लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पुलिस के 124 जवानों को प्रशिक्षित किया गया है। सीआरपीएफ के ट्रेंड जवानों ने पुलिसबलों को 6 हफ्ते की कड़ी ट्रेनिंग दी है। इस दौरान पुलिस के जवानों को अत्याधुनिक हथियारों को चलाने के साथ ही दंगा और भीड़ नियंत्रण के लिए खासतौर पर प्रशिक्षित किया गया है।

ये भी पढ़ें— 9 साल तक जेल में मुझे प्रताड़ित करने वालों को मांगनी चाहिए माफी: प्रज्ञा

सीओ कैंट अनिल कुमार के देखरेख में पुलिस लाइन में चल रहे इस ट्रेनिंग प्रोग्राम के अंतिम दिन जवानों ने मॉक ड्रील किया और अपने हुनर को दिखाया। ट्रेनिंग के बाबत सीओ अनिल कुमार कहते हैं कि प्रवासी भारतीय सम्मेलन के दौरान वाराणसी पुलिस के अनुशासन और मुस्तैदी की काफी तारीफ हुई थी। इसके बाद हम लोगों ने स्पेशल क्यूआरटी बनाने का फैसला किया, ताकि किसी भी आपात स्थिति में पुलिस के जवान तत्काल हालात पर काबू पा सकें।

एडीजी ने थपथपाई जवानों की पीठ

सीआरपीएफ ने अपने कड़े अनुभव के आधार पर उन्हें ट्रेंड किया है। इन्हें हर तरीके से ट्रेंड करते हुए यह विशेष ट्रेनिंग दी गई है क़ी ये विकट से विकट परिस्थितियों में भी सामने वाले शत्रु के ऊपर कहर बनकर टूट पड़ें।

ये भी पढ़ें— अगस्ता वेस्टलैंड केस: 22 अप्रैल के लिए सुशेन मोहन गुप्ता के खिलाफ पेशी वारंट जारी

एडीजी पीवी रामा शास्त्री ने इस मौके पर कहा कि इस तरीके की ट्रेनिंग से जनपद में किसी भी अनहोनी पर निपटा जा सकता है। इसके अलावा पुलिस के जवानों को एक साइकोलॉजिकल ट्रेनिंग भी मिली है साथ-साथ अति व्यस्तता होने के कारण यह ट्रेनिंग एक उनके माइंड को रिफ्रेश भी करेगी जिससे उनके कार्य क्षमता का विकास होगा।