Exclusive

मुलायम सिंह को दरकिनार कर अखिलेश यादव ने भले ही समाजवादी पार्टी पर कब्जा कर लिया हो पर पार्टी पर उनकी पकड़ उतनी मजबूत नहीं दिख रही है। जितनी बतौर राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह की थी। अब अकेले शिवपाल ने ही नहीं पार्टी और परिवार के अंदर भी अखिलेश यादव के सामने चुनौतियों बढती जा …

लखनऊ। उत्तर प्रदेश को सियासत का अखाड़ा कहा जाय तो गलत नहीं होगा। यहां जीत-हार के हर दांव है। हर शह और मात में दांव का मजा है। हर दांव की सीख है। हर सीख के बाद नए दांव हैं। चुनाव भले ही राष्ट्रपति का हो रहा हो पर सियासी दांवपेंच में यूपी में कोई …

राजकुमार उपाध्याय लखनऊ। गोमती रिवर फ्रंट की सीबीआई जांच की सिफारिश की फाइल कहीं गुम हो गयी सी लगती है। सीबीआई जांच रोकने के लिए सत्ता के गलियारों में इतनी जबर्दस्त लॉबिंग चल रही है, कि मामला जस का तस पड़ा है। योगी सरकार के सत्ता में आते ही अखिलेश सरकार के जिन कामों को …

लखनऊ: ‘जरा मौसम तो बदला है, मगर पेड़ों की शाखों पर नए पत्तों के आने में अभी कुछ दिन लगेंगे’ जी हां, उत्तर प्रदेश में सत्ता बदली सत्ता का निज़ाम बदला। ऊपर से लेकर नीचे तक यानि पुलिस महानिदेशक से लेकर थानेदार तक बदल दिए गए, लेकिन अगर नहीं बदला कुछ तो वह है अपराधियों …

  लखनऊ: चावल, गेहूं, दाल और फल-सब्जियों के बूते शरीर को पोषक तत्व मुहैया कराने का सपना अब दूर की कौड़ी हो गई है। आपको खुद और अपने बच्चे को कुपोषण से बचाने के लिए अब धरती की कोख से उपजने वाले अनाज और फल-सब्जियों के अलावा कृत्रिम पौष्टिक अहारों पर अधिक निर्भर रहना पड़ेगा। …

आरबी त्रिपाठी लखनऊ। अजीब दास्‍तां हैं ये, कहां शुरू कहां खतम…ये मंजिलें हैं कौन सी…न वो समझ सके न हम…..की तर्ज पर सत्‍ता के गलियारों में कहीं कुछ अजीब सा घटित हो रहा है। काफी कुछ छिपा रहता है लेकिन कभी-कभार दिख भी जाता है, जैसा कि गुरुवार की शाम को राजधानी के साइंटिफिक कन्‍वेंशन …

राजकुमार उपाध्याय लखनऊ:  योगी सरकार के सत्ता में आने के बाद भी जल निगम के इंजीनियरों की कार्य संस्कृति नहीं बदली है। हाल ही में मेरठ, बड़ौत, खुर्जा में जल आपूर्ति से जुड़े ठेकों के आवंटन में यह झलका भी। ठेकों में फर्जी दस्तावेजों के सहारे कागजी खानापूॢत करने वाली फर्मों को तरजीह मिली है। …

अनुराग शुक्ला लखनऊ। 19 साल में तीन दलों की सरकार, कई तरह के राजनीतिक प्रयोग, सात मुख्यमंत्री, चार औद्योगिक नीतियां मगर देश में होने वाले कुल प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का 0.02 फीसदी ही उत्तर प्रदेश में आ रहा है। ये डेढ़ लाइनें ही उत्तर प्रदेश में निवेश और औद्योगिक नीति की कुल जमा कहानी बयां …

  प्रस्तुति : संजय तिवारी स्वाधीन भारत में अब से ठीक 41 वर्ष पूर्व देश में जो कुछ घटा वह फिर कभी न घटे। भारत में इमरजेंसी देख चुकी और भोग चुकी पीढ़ी तो अब बूढ़ी हो चली है। वर्तमान युवा भारत को उस यातना और संघर्ष का तो आभास भी नहीं हो सकता। उस …

संजय तिवारी  15 अगस्त 1947 की मध्य रात्रि को जब पंडित जवाहर लाल नेहरू संसद के केंद्रीय हॉल से देश और दुनिया को संदेश दे रहे थे, कि भारत अब एक नये युग में प्रवेश कर रहा है। पंडित नेहरू के उस भाषण के बाद स्वाधीन भारत की संसद में कभी आधी रात को किसी प्रधानमंत्री …