बच्चों पर भारी कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन, रहना होगा सावधान

ब्रिटेन के इंपीरियल कॉलेज लंदन के महामारी वैज्ञानिक प्रो. नील फर्गस्न का कहना है कि पहले वाले कोरोना वायरस का बच्चों पर कम प्रभाव पड़ा था।

Published by Roshni Khan Published: January 5, 2021 | 1:19 pm
corona

बच्चों पर भारी कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन, रहना होगा सावधान (PC: social media)

नीलमणि लाल

नई दिल्ली: कोरोना वायरस पहले ही वैज्ञानिकों के लिए अबूझ पहेली बना हुआ था और अब इसके नए रूप ने मुश्किल और बढ़ा दी है। वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना का नया स्ट्रेन 50 से 70 फीसदी ज्यादा संक्रामक है। ऐसे में बच्चों को इस स्ट्रेन से ज्यादा खतरा हो सकता है।

ये भी पढ़ें:UP: कोरोना वैक्सीन पर CM योगी का आदेश- आम और ख़ास में नहीं होना चाहिए भेदभाव

पहले वाले कोरोना वायरस का बच्चों पर कम प्रभाव पड़ा था

ब्रिटेन के इंपीरियल कॉलेज लंदन के महामारी वैज्ञानिक प्रो. नील फर्गस्न का कहना है कि पहले वाले कोरोना वायरस का बच्चों पर कम प्रभाव पड़ा था। नए रूप को लेकर अब तक जो कुछ भी सामने आया है उसके अनुसार यह ज्यादा संक्रामक है। ब्रिटेन के जिन क्षेत्रों में वायरस के नए रूप वाले मामले सामने आए हैं उनमें 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों की संख्या ज्यादा है । लेकिन सही आंकड़ा क्या है इस बारे में पता नहीं चल सका है। इंपीरियल कॉलेज लंदन के वायरोलॉजिस्ट डॉ. वेंडी  का कहना है कि बच्चों में वयस्कों की तुलना में एस-2 रिसेप्टर कम होते हैं। जिसके जरिए वायरस अपना जाल बिछाता है। नए और एस-2 रिसेप्टर की भूमिका पर नया अध्ययन करना होगा।

अमेरिका में भी फैला

अमेरिका में कोरोना के नए स्ट्रेन का ही असर माना जा रहा है कि बच्चे बहुत ज्यादा तादाद में संक्रमित हो रहे हैं। कुछ जगहों से रिपोर्ट है कि बच्चों के अस्पताल भर गए हैं। ब्रिटेन में तो स्कूलों को बंद कर दिया गया गया है।

वैज्ञानिकों के मुताबिक अगर इस स्ट्रेन से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में कोई 30-40 सेकेंड के लिए भी आता है तो उसके संक्रमित होने की संभावना बढ़ जाएगी।

ये भी पढ़ें:भारत में हाई अलर्ट: देश पर नए संकट का खौफ, लाखों मुर्गियों की मौत से बढ़ा खतरा

भारत में खतरा कम

चिकित्सकों के मुताबिक भारत में समय-समय पर लगने वाले टीके बच्चों को बीमारियों से बचाने में सहायक होते हैं। हालांकि नए स्ट्रेन का खतरा बच्चों पर कितना होगा इस पर अभी अध्ययन चल रहा है। भारत में बच्चों के लिए बरसों से चल रहा सघन टीकाकरण अभियान बहुत कारगर साबित हो सकता है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App