India

कांग्रेस के नेता शशि थरूर और गाक अदनान सामी में शनिवार को भिड़ंत हो गई। यह भिड़त सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर हुई। शशि थरूर ने प्रधानमंत्री मोदी की 5 अप्रैल को दीया और मोमबत्ती जलाने वाली अपील को लेकर ट्वीट किए।

देश में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। इस जनालेवा वायरस से निपटने के लिए सरकार ने 21 दिनों का लॉकडाउन किया है, लेकिन फिर भी हर दिन कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

कोरोना वायरस के खिलाफ दुनिया जंग एकजुट होकर जंग लड़ रही है। इस बीच कश्मीर का राग अलापने वाले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है।

कोरोना वायरस के संदिग्धों द्वारा क्वारनटीन के दौरान कर्मचारियों पर पथराव करने का मामला सामने आया है। मामला बिहार में सीवान में बने क्वारनटीन सेंटर का है।

राजस्थान के भरतपुर में चौंका देने वाला अमानवीय मामला सामने आया है। यहां आरोप है कि भरतपुर के सरकारी अस्पताल में एक गर्भवती महिला को इसलिए नहीं भर्ती किया गया कि वो मुस्लिम है। फिर गर्भवती को यहां से दूसरे अस्पताल में ले गए तो रास्ते में प्रसव हो गया और नवजात की मौत हो गई। इस मामले की वजह से यह सरकारी अस्पताल जांच के घेरे में है।

लॉकडाउन के कारण गरीब भुखमरी की कगार पर आ गए हैं। बिहार में लॉकडाउन के कारण 3 दिनों से अनाथ बहनें भूखी थीं, वहीँ औरतों ने कुत्ते के मुंह से रोटी छीन ली।

पीएम मोदी ने 8 अप्रैल को कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति पर चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इस घातक वायरस के प्रकोप पर राजनीतिक दलों के साथ मोदी की यह पहली बैठक है जो कि वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए की जाएगी।

दुनियाभर में कोरोना वायरस से मचे हाहाकार के बीच भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से शनिवार को फोन पर ख़ास बातचीत की। इस दौरान दोनों देशों ने कोरोना वायरस के खिलाफ एक मुहीम के तहत जुड़ने और एक दूसरे की मदद करने की सहमति दी।

भारत में भी कोरोना कहर बन चुका हैं। अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी होने लगी। और मौत का आंकडा भी बढ़ने लगा है। इधर देश के सबसे बड़े स्लम इलाके मुंबई के धारावी में बुधवार को कोरोनावायरस का पहला मामला मिला और रिपोर्ट आने के कुछ ही घंटों में उस शख्स की मौत हो गई।

ऐसी आशंकाएं हैं कि बिजली की ग्रिड ही फेल हो जाएगी। अब ऐसी अफवाहों पर रोक लगाते हुए बिजली मंत्रालय की तरफ से बयान जारी किया गया है।