स्पीकर ने कांग्रेस सांसदों को फटकारा, 6 MPs लोकसभा में 5 बैठकों से निलंबित

Published by Published: July 24, 2017 | 1:55 pm
Modified: July 24, 2017 | 3:49 pm

नई दिल्ली: संसद के मानसून सत्र के दौरान मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर कांग्रेस ने लोकसभा में सोमवार को जोरदार हंगामा किया। कांग्रेस कई सासंदों ने स्पीकर सुमित्रा महाजन पर कागज के गोले भी फेंके। अनंत कुमार ने कहा कि कांग्रेस सांसदों के द्वारा इस तरह की हरकत शर्मनाक है, लेकिन इसके बावजूद भी कांग्रेस के सांसद लगातार हंगामा करते रहे।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कांग्रेस के छह सांसदों को उनके अनुचित व्यवहार के लिए पांच बैठकों से निलंबित कर दिया। जिन सांसदों को निलंबित किया गया है, उनमें गौरव गोगोई, अधीर रंजन चौधरी, रंजीत रंजन, सुष्मिता देव, एम.के. राघव तथा के.सुरेश शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि सदस्य सदन में ‘जानबूझकर बाधा’ डाल रहे थे और उन्होंने अव्यवस्था उत्पन्न की। उन्होंने उनके निलंबन की घोषणा नियम 374ए के तहत लगातार पांच बैठकों के लिए की।

सदन में उस वक्त राहुल गांधी और सोनिया गांधी भी मौजूद रहे लेकिन उन्होंने अपने सांसदों को नहीं रोका । कांग्रेस सांसदों के इस बर्ताव पर स्पीकर सुमित्रा महाजन नाराज हो गई। उन्होंने कहा कि देखना चाहती हूं कि सांसद कितनी अनुशासन हीनता कर सकते हैं, देश भी इनके बर्ताव को देख रहा है।

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि भीड़ के हमले से हत्या की मामले लगातार बढ़ रहे हैं, पीएम ने तीन बार इस मुद्दे पर कहा है, लेकिन कोई एक्शन नहीं हुआ है जबतक एक्शन नहीं होगा, ये घटनाएं नहीं रुकेंगी। अनंत कुमार ने कहा कि पूरे देश के लिए गाय मां जैसी है, हम सभी को गाय की रक्षा करनी चाहिए। गाय की रक्षा करना हमें संविधान भी सिखाता है, लेकिन गाय के नाम पर कोई भी हिंसा नहीं सही जाएगी। खड़गे ने सदन में मॉब लिंचिंग और दलितों पर हो रही हिंसा के मुद्दे पर चर्चा कराने की मांग की ।

मीनाक्षी ने उठाया बोफार्स का मसला: मीनाक्षी लेखी ने बोफार्स मामले का मुद्दा उठाया। मीनाक्षी ने कहा कि कांग्रेस वाले कहेंगे कि इस तरह से गढ़े-मुर्दे नहीं उखाड़ना चाहिए, लेकिन जबतक गढ़े-मुर्दे मुद्दे अच्छी तरह से दफन ना हो तो वे भूत-पिशाच बनकर घूमते हैं।

आगे की स्लाइड में जानिए क्यों बढ़ा यह मामला

राज्यसभा में उठा मोदी-नेतन्याहू की बात का मुद्दा
राज्यसभा में चर्चा के दौरान कांग्रेस के नेता आनंद शर्मा ने पीएम मोदी और इजरायल के पीएम नेतन्याहू की प्राइवेट बात का मसला उठाया। उन्होंने कहा कि पीएम ने नेतन्याहू से फिलीस्तीन ना जाने की बात कही, जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि आपसे मुझे टेक्नॉलोजी मिलेगी, फिलिस्तीन से क्या मिलेगा। इस दौरान इजरायल के अखबार की खबर को दिखाया। उपसभापति ने इसके जवाब में कहा कि मैं सरकार को इस बारे में दिशानिर्देश नहीं दे सकता हूं।

पिछले सप्ताह संसद में कांग्रेस ने किसानों और मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर सरकार पर निशाना साधा था , लेकिन मायावती के इस्तीफे की वजह से सदन में हंगामा होता रहा, अब कांग्रेस फिर दोनों सदनों में इस मुद्दे पर चर्चा चाहती है।
पिछले सप्ताह भी कांग्रेस समेत विपक्ष ने इस मुद्दे पर संसद में बहस की थी।

कांग्रेस ने संसद में 40 पन्नों का डोजियर पेश किया था। संसद में कांग्रेस के द्वारा 40 पन्नों के दिए गए डोजियर पर बीजेपी ने पलटवार किया था। संबित पात्रा ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा था कि डोजियर में अलगाववादियों का नाम नहीं है, कांग्रेस बस संसद को ठप करना चाहती है। पीएम ने कई बार गो रक्षकों पर बयान दिया है, फिर भी कांग्रेस इसे मुद्दा बनाना चाहती है।

संसद के मानसून सत्र के तीसरे दिन पिछले बुधवार को राज्यसभा में मॉब लिंचिंग और गोहत्या के मुद्दे पर बहस हुई थी। राज्यसभा में केंद्रीय गृहराज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा कि पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में मॉब लिंचिंग और गोरक्षकों के मुद्दे पर बोल दिया है, अगर जरुरत होगी तो पीएम सदन में बयान देंगे।

अहीर ने कहा था कि देश के 5 राज्यों में गोहत्या पर रोक नहीं है, बाकी सभी राज्यों में गोहत्या पर रोक है। मंत्री ने कहा कि मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर राज्य सरकारों को एक्शन लेने के निर्देश दिए गए हैं। गोरक्षा के नाम पर हरियाणा में हुई हत्या को लेकर अभी तक चार लोग गिरफ्तार हुए हैं।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App