×

कोरोना की दहशत में केरल: राजकीय आपदा घोषित, सभी जिलों में अलर्ट

प्रदेश की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने सोमवार को कहा कि मुख्यमंत्री पिनारई विजयन के निर्देश पर इसकी घोषणा की गई। अलपुझा एनआईवी में इस बीमारी की जांच भी शुरू कर दी गई है। बताया जा रहा है कि केरल राज्य में अब तक कोरोना वायरस के 3 मरीज पाए गए हैं। 

SK Gautam

SK GautamBy SK Gautam

Published on 3 Feb 2020 4:18 PM GMT

कोरोना की दहशत में केरल: राजकीय आपदा घोषित, सभी जिलों में अलर्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: चीन से फैले कोरोना वायरस ने पूरे विश्व में दहशत फैला दी है। केरल सरकार ने कोरोना वायरस को लेकर प्रदेश में राजकीय आपदा घोषित कर दिया है। प्रदेश की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने सोमवार को कहा कि मुख्यमंत्री पिनारई विजयन के निर्देश पर इसकी घोषणा की गई। अलपुझा एनआईवी में इस बीमारी की जांच भी शुरू कर दी गई है। बताया जा रहा है कि केरल राज्य में अब तक कोरोना वायरस के 3 मरीज पाए गए हैं।

इमीग्रेशन डिपार्टमेंट से संपर्क करने की तैयारी

बता दें कि सभी जिलों को इस बाबत प्रभावी कदम उठाने का निर्देश जारी किया गया है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सरकार उन लोगों की लिस्ट बना रही है जो वुहान से लौटे हैं। इसके लिए इमीग्रेशन डिपार्टमेंट से संपर्क करने की तैयारी है। हर संदिग्ध मरीज पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है।

ये भी देखें : 18 लोगों की मौत, आतंकियों ने पार की क्रूरता की हदें, खून से सन गईं सड़कें

सोमवार को केरल से एक व्यक्ति के कोरोना वायरस के संक्रमित होने की खबर सामने आई है। हाल ही में शख्स ने चीन की यात्रा की थी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि नोवेल कोरोना वायरस शख्स में पॉजिटिव पाया गया है। मरीज को अस्पताल में अलग रखा गया है। मरीज की हालत स्थिर है। स्वास्थ्य टीम मरीज की कड़ी निगरानी कर रही है।

इससे पहले स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस के संबंध में नई एडवाइजरी जारी की थी। एजवाइजरी में कहा गया है कि चीन की यात्रा न करें। अगर चीन से लौटेंगे तो फिर उन्हें अलग रखा जाएगा।

कैबिनेट सचिव ने बुलाई उच्च स्तरीय बैठक

इससे पहले कोरोना वायरस से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने के लिए सोमवार को एक उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक हुई। कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, गृह मंत्रालय, नागरिक उड्डयन मंत्रालय, स्वास्थ्य अनुसंधान विभाग के सचिवों के साथ-साथ आईटीबीपी, एएफएमएस और एनडीएमए के प्रतिनिधि भी शामिल हुए। कैबिनेट सचिव इस बाबत अब तक छह समीक्षा बैठकें कर चुके हैं।

ये भी देखें : भू-माफियाओं में मचा हडकंप: यहां खाली कराई गई करोड़ों की जमीन

संदिग्धों को अलग रखने का निर्देश

स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेष सचिव संजीव कुमार ने बैठक की जानकारी देते हुए कहा कि अब तक 445 उड़ानों के 58,658 यात्रियों की स्क्रीनिंग की गई है। रोग के लक्षण वाले कुल 142 यात्रियों को अस्पतालों में आइसोलेशन (अलग) वार्ड में रखा गया है। 130 नमूनों की जांच की गई थी, जिनमें से 128 नमूनों में रोग के लक्षण नहीं पाए गए हैं।

SK Gautam

SK Gautam

Next Story