×

गुजरात : गरबा बना दलित युवक की हत्या का कारण, दहशत में गांव

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 3 Oct 2017 11:10 AM GMT

गुजरात : गरबा बना दलित युवक की हत्या का कारण, दहशत में गांव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

भद्रानिया : गुजरात के भद्रानिया गांव में गरबा कार्यक्रम के दौरान एक दलित युवक की हत्या से दलित समुदाय की बस्ती दहशत में है। इस मामले में पुलिस ने आठ लोगों को तत्काल गिरफ्तार कर लिया। भद्रानिया के वंकारवस के लोगों ने जिग्नेश मेवानी के नेतृत्व में दलित कार्यकर्ताओं की टीम को बताया कि रात में घरों की बिजली काट दी गई, ताकि पीड़ित परिवार से कोई मिलने न आ सके।

राष्ट्रीय दलित अधिकार मंच के संयोजक मेवानी ने बताया, "गांव के सरपंच ने आश्वस्त किया है कि इस घटना के बाद गांव में बिजली नहीं थी, इस वजह से कुछ ही लोग मृतक जयेश के परिवार से मिल सके।"

ये भी देखें: दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ा तो विरोध प्रदर्शन करेगी आम आदमी पार्टी

मेवानी बीती सोमवार रात से गांव में डेरा डाले हुए हैं। उन्होंने कहा, "लोग यह भी कह रहे हैं कि कुछ अज्ञात लोग बीती रात वंकारवस में घूम रहे थे, हो सकता है कि वे नजर रखे हुए हों।"

यह गांव गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष भरतसिह सोलंकी के गृह जिले आणंद में है।

ये भी देखें: 02 अक्टूबर तक शौचालयों के निर्माण में TOP पर उत्तर प्रदेश

पुलिस का कहना है कि शनिवार तड़के वंकारवस गांव के ही पटेल जाति के कुछ लोगों ने कथित तौर पर जयेश सोलंकी (21) की पीट-पीटकर हत्या कर दी।

उन्होंने बताया कि स्थानीय मंदिर के पास गरबा कार्यक्रम में हिस्सा लेने की वजह से जयेश की बेरहमी से पिटाई की गई। स्थिति उस समय बिगड़ी, जब संजय उर्फ भीमू ने कथित तौर पर जयेश पर जातिवादी टिप्पणियां कीं और गालियां दीं।

संजय और उसके सात दोस्तों ने जयेश को बताया कि दलितों को गरबा कार्यक्रमों में हिस्सा लेने का अधिकार नहीं है। गरबा सिर्फ ऊंची जातियों के लिए है।

ये भी देखें: केजरीवाल फार्मासिस्टों की नियुक्ति को मंजूरी देने का LG से करेंगे आग्रह

इस बात पर विवाद बढ़ने पर दोनों पक्षों के बीच मुक्के जड़े गए और पटेल जाति के लड़कों ने जयेश की पिटाई करनी शुरू कर दी।

जयेश का सिर दीवार पर पटका गया, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। वह बेहोश हो गया, जिसके बाद उसे निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं- जैसे धारा 302 (हत्या) और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

ये भी देखें:केरल में शाह, कहा- BJP-RSS वर्कर्स की हत्या के पीछे CM जिम्मेदार

मेवानी का कहना है कि विभिन्न दलित संगठनों ने जयेश की हत्या के विरोध में गुरुवार को गांव में सार्वजनिक बैठक की और जिला कलेक्टर को ज्ञापन पत्र सौंपा। उन्होंने कहा कि दलितों पर हमले रोजमर्रा की बात हो गई है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story