×

ईवीएम में खराबी, गलती मीडिया की...गजब किए है निर्वाचन आयोग

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 May 2018 4:42 PM GMT

ईवीएम में खराबी, गलती मीडिया की...गजब किए है निर्वाचन आयोग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में उपचुनाव के दौरान इस्तेमाल की गईं ईवीएम मशीनों और वीवीपैट में बड़े पैमाने पर खराबी को लेकर मीडिया में आईं रपटों को निर्वाचन आयोग ने सोमवार को अतिरंजित करार दिया।

आयोग ने यह भी स्पष्ट किया कि भंडारा-गोंदिया संसदीय क्षेत्र में किसी भी मतदान केंद्र पर मतदान रद्द नहीं किया गया है और खराब मशीनों को बदले जाने के बाद मतदान फिर से शुरू हो गया।

ईसी ने कहा कि सभी आम चुनाव और उपचुनाव में लगभग 20-25 प्रतिशत अतिरिक्त ईवीएम और वीवीपैट मीशीनें मुहैया कराई जाती हैं।

ये भी देखें : कैराना सीट पर 54.17 फीसदी, नूरपुर विधानसभा सीट पर 61 फीसदी मतदान

अतिरिक्त मशीनें सेक्टर अधिकारियों के पास होती हैं, जिनके ऊपर 10-12 मतदान केंद्रों की जिम्मेदारी होती है।

ईसी ने कहा, "किसी भी मतदान केंद्र पर ईवीएम या वीवीपैट को बदलने में सामान्यतौर पर 30 मिनट से भी कम समय लगता है।"

आयोग ने कहा, "मतदान के दौरान गड़बड़ी वाले ईवीएम या वीवीपैट को बदलना एक सामान्य प्रक्रिया है और किसी भी रूप में मतदान प्रक्रिया की ईमानदारी या विश्वसनीयता पर आंच नहीं आती।"

ये भी देखें :यूपी : मतदाताओं को गाड़ी से लाने के आरोप में पूर्व सपा सांसद हिरासत में

आयोग ने कहा कि भंडारा-गोदिया में 35 बूथों पर मतदान रद्द किए जाने की खबर सच नहीं है, और इसी संसदीय क्षेत्र में 25 प्रतिशत मतदान बूथों पर ईवीएम या वीवीपैट में खराबी की खबरें सही नहीं हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story