Top

2 साल पहले हुई थी इकलौते बेटे की मौत, नौकरी छोड़ खुद लगाया कातिलों का पता

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 23 Oct 2018 7:48 AM GMT

2 साल पहले हुई थी इकलौते बेटे की मौत, नौकरी छोड़ खुद लगाया कातिलों का पता
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुंबईः जिस इकलौते बेटे की मौत की जांच पुलिस ने दो दिन में बंद कर दी, उसे इंसाफ दिलाने के लिये एक पिता नौकरी छोड़ दो साल तक कातिलों की तलाश में भटका। ये उसका हौसला ही था कि अंत में उसने अकेले दम पर कातिलों का पता लगा लिया।

यह भी पढ़ें: मलाइका अरोड़ा बर्थडे: इस गाने ने बॉलीवुड में दिलाई थीं पहचान, 6 साल बड़े एक्टर को बनाया था जीवन साथी

घटना मुंबई के मीरा रोड पर रहने वाले शब्बीर खान की है। उनका 14 वर्षीय इकलौता बेटा मोहम्मद 4 नवम्बर,2016 को अपने जन्मदिन पर दोस्तों के साथ घर के पास खेलने गया था। पर उसदिन के बाद वो कभी नही लौटा। जब परिवार पुलिस में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाने गया तो पुलिस ने बताया कि सेल्फी लेने के दौरान ट्रेन के नीचे आने से उसकी मौत हो गयी है।

यह भी पढ़ें: दीपावली 2018: त्योहार पर इसलिए फोड़े जाते हैं पटाखे, अब SC ने सुनाया फैसला

अपने इकलौते बेटे को खोने के कारण उसके पिता शब्बीर खान को पुलिस की बात पर विश्वास नही हुआ। दुबई में नौकरी कर रहे शब्बीर ने एक महीने बाद नौकरी छोड़ दी और खुद तफ्तीश करने लगे।

यह भी पढ़ें: यूपी: जहरीला पदार्थ पीने के बाद सिपाही को मिली छुट्टी

शब्बीर ने बताया कि एक दिन मैने सोसाइटी की बिल्डिंग में लगे सीसीटीवी कैमरे में देखा कि मेरे बेटे के साथ खेलने गया उसका दोस्त अकेले चला आ रहा है। बहुत बार पूछने पर उसने बताया कि जब भी वो लोग खेलने जाते थे,तो स्टेशन पर रहने वाले कुछ लड़के जो ड्रग्स लेते थे,हमसब को मारते थे और पैसे छीन लेते थे। उस दिन भी उनसब ने मोहम्मद को मारा और उससे उसका नया फोन और पैसे छीनने लगे। मोहम्मद ने जब फोन देने से मना कर दिया तो उन लड़को ने उसे ट्रेन के आगे फेक दिया।

यह भी पढ़ें: एशियन चैंपियंस ट्रॉफी-2018: रफ्तार और हुनर के आगे सब लाचार, आज इंडिया से भिड़ेगा मलेशिया

शब्बीर ने ये पूरी बात 2017 में रेलवे पुलिस को लिख कर दी। रेलवे ने घटना की जांच के लिये एक टीम गठित की। जांच में सामने आया कि इस पूरी घटना को चार नाबालिग लड़को ने अंजाम दिया था। इनमें से तीन की उम्र 15 साल और एक की 16 साल है। रेलवे के सीनियर इंस्पेक्टर विलास चौगले ने बताया कि इस पूरे केस में सब नाबालिग शामिल है इसलिये इसकी जानकारी नही दी जा सकती है। वही गिरफ्तारी के सवाल पर बताया कि इनकी गिरफ्तारी असिस्टेंट कमिश्नर के निर्देश पर होगी,जोकि अभी छुट्टी पर है।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story