नोएडा कांड : दो अफसरों पर गिरी गाज, मृतकों को दो-दो लाख की सहायता

Published by Anoop Ojha Published: July 18, 2018 | 3:08 pm
Modified: July 19, 2018 | 3:52 pm

नोयडा में निर्माणाधीन बिल्डिंग गिरे, 3 की मौत, 30 से ज़्यादा के फँसे होने की आशंका

लखनऊ : सीएम योगी आदित्यनाथ ने गौतमबुद्ध नगर की तहसील दादरी स्थित ग्राम शाहबेरी में 17 जुलाई की रात को निर्माणाधीन भवन के एकाएक गिरने से हुई मौतों पर सख्त रूख अख्तियार किया है। काम में लापरवाही के आरोप में ग्रेटर नोएडा के सहायक प्रबन्धक परियोजना अख्तर अब्बास जैदी और प्रबन्धक परियोजना वीपी सिंह को निलंबित कर दिया है। सीएम ने आरोपी अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनिक कार्यवाही शुरू करने के भी निर्देश दिए हैं।
सीएम योगी ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता की घोषणा करते हुए निर्देश दिया है कि मृतकों में से कोई भी मजदूर होने की स्थिति में भी यह सहायता धनराशि उन्हें अनुमन्य सहायता राशि के अतिरिक्त दी जाएगी। मामले की जांच मण्डलायुक्त, मेरठ से कराई जाएगी। अवैध निर्माण कराने वाले व्यक्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाकर दोषियों की गिरफ्तारी की जिम्मेदारी कमिश्नर मेरठ को सौंपी गई है। ग्रेटर नोएडा के अधिसूचित क्षेत्र के आस-पास के क्षेत्र में हुए अवैध निर्माण पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए कार्रवाई भी होगी। खुद सीएम योगी ने मंडलायुक्त मेरठ को यह निर्देश दिए हैं।

क्या है मामला  

ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी गांव में 6 मंजिला निर्माणाधीन इमारत, दूसरी 4 मंजिला इमारत पर गिर गई। इस हादसे में अब तक 6 लोगों की मौत हो गई है। जिन की लाश मलबे से निकाली गई है। मलबे में दर्जनों लोगों के और दबे होने की आशंका जताई जा रही है। हादसे के बाद एनडीआरएफ आईटीबीपी की टीम मौके राहत और बचाव कार्य में जुटी है। बचाव कार्य में जेसीबी और ड्रिल मशीनों की मदद से की जा रही है। बताया जा रहा है कि जिस बिल्डिंग पर निर्माणाधीन बिल्डिंग गिरी उस में 10 – 12 परिवार रह रहा था। बिल्डिंग गिरने के साथ ही धमाका इतना तेज़ हुआ की आसपास के लोग दहशत की वजह से घरों से बाहर निकल भागे।

यह भी पढ़ें…..ग्रेटर नोएडा में सुपरटेक बिल्डर्स को फ्लैट बेचने पर रोक

यह वह इलाक़ा है, जहाँ निर्माण कार्य पर रोक लगी हुई है। जिस की वजह से राहत और बचाव कार्य में दिक़्क़त आई है। राहत आयुक्त संजय कुमार ने बताया है, कि जिला प्रशासन को युद्ध स्तर पर बचाव और राहत काम में जुटने को कहा गया है।हादसे के बाद मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई है। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए मौके पर आसपास के कई थानों की फ़ोर्स को मौके पर लगाया गया है। पुलिस ने जिस ज़मीन पर बिल्डिंग बन रही थी उस के मालिक गंगा सरन दिवेदी को हिरासत में ले लिया है, जबकि बिल्डर क़ासिम अभी भी फरार बताया जा रहा है। जिस की तलाश में पुलिस छापेमारी कर रही है। बताया जा रहा है, कि बिल्डिंग के निर्माण कार्य में घटिया मैटेरियल का इस्तेमाल किया जा रहा था जिस की वजह से यह हादसा हुआ है।

नोयडा में निर्माणाधीन बिल्डिंग गिरे, 3 की मौत, 30 से ज़्यादा के फँसे होने की आशंका

राहत आयुक्त संजय कुमार ने बताया की हादसे के बाद ही मौके पर एनडीआरएफ की टीम को लगाया गया था, और देर रात मौके पर आईटीबीपी की टीम को भी लगाया गया है। उन्होंने ने बताया की पहली प्राथमिकता राहत और बचाव कार्य की है। संजय कुमार ने बताया कि मलबा हटाने में समय लग सकता है।

एसएसपी नोएडा अजय पाल शर्मा ने बताया गंगा सरन दिवेदी समेत तीन आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं। राहत और बचाव का काम जारी है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App