Top

अरबपति BSP नेता की हत्या में भी 'बाबा' शामिल, गाजियाबाद में गिरफ्तार

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 16 Sep 2017 10:24 AM GMT

अरबपति BSP नेता की हत्या में भी बाबा शामिल, गाजियाबाद में गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गाजियाबाद : पुलिस ने शनिवार को खुद को बाबा बताने वाले एक शख्स को 2013 में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के नेता दीपक भारद्वाज की हत्या में शामिल होने के आरोप में गाजियाबाद जिले में गिरफ्तार किया है। वह चार साल से फरार था। गाजियाबाद के एसएसपी एच.एन. सिंह ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि महेंद्र नाथ उर्फ बाबा प्रतिभानंद के सिर पर दिल्ली पुलिस ने एक लाख रुपये का इनाम रखा था। उसे शुक्रवार रात पुलिस अधीक्षक (शहर) आकाश तोमर के नेतृत्व में एक टीम ने यहां रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया।

पुलिस ने महाराष्ट्र के बीड के रहने वाले प्रतिभानंद की मौजूदगी की सूचना पर उसे फौरन गिरफ्तार कर लिया।

पूछताछ के दौरान उसने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है और उसके पास से .32 बोर का एक पिस्तौल और कारतूस बरामद हुआ है।

ये भी देखें:PICS: मलाइका ने कराया एक ब्रांड के लिए फोटोशूट, देख के उड़ जाएंगे होश

प्रतिभानंद ने स्वीकार किया कि मंदिर में आयुर्वेदिक दवाइयां बेचने के दौरान वह वकील बलजीत सहरावत के संपर्क में आया, जिनके जरिए उसकी पहचान भारद्वाज के छोटे बेटे नितेश से हुई। उसकी (नितेश) और उसकी मां के रिश्ते भारद्वाज के साथ अच्छे नहीं थे और उन लोगों ने भारद्वाज की हत्या करने के लिए प्रतिभानंद को पांच करोड़ रुपये की सुपारी दी थी।

हथियार और अन्य सामान जैसे-हमलावरों के लिए वाहन खरीदने के लिए 50 लाख रुपये एडवांस में दिए गए। प्रतिभानंद ने भारद्वाज की हत्या को अंजाम देने के लिए अपने ड्राइवर पुरुषोत्तम राणा और अन्य को साथ मिला लिया।

भारद्वाज की 26 मार्च 2013 को गुरुग्राम के टोल प्लाजा के पास 34 एकड़ में फैले उनके (भारद्वाज के) नितेश कुंज फार्महाउस में मोटरबाइक सवार दो-तीन अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी गई।

ये भी देखें:भारतीय सैनिकों से डरा पाकिस्तान, सीमा पर बढ़ा दी स्नाइपरों की संख्या

कथित बाबा ने पुलिस को बताया कि भारद्वाज की हत्या करने के लिए इसलिए राजी हो गया था, ताकि उसे पर्याप्त धन मिल सके और वह हरिद्वार में एक आश्रम की स्थापना करने और एक 'मठ' का संचालन करने के अपने बचपन के सपने को साकार कर सके।

साल 2009 में बसपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ चुके भारद्वाज दिल्ली में सबसे अमीर उम्मीदवार थे, जिन्होंने 600 करोड़ रुपये की संपत्ति घोषित की थी।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story