×

नीमच में हिरासत में लिए गए राहुल गांधी, बोले- किसानों को सिर्फ गोली दे सकते हैं मोदी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 8 Jun 2017 8:11 AM GMT

नीमच में हिरासत में लिए गए राहुल गांधी, बोले- किसानों को सिर्फ गोली दे सकते हैं मोदी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मंदसौर: मध्य प्रदेश के मंदसौर में आंदोलन के दौरान मारे गए 6 किसानों के परिवार से मिलने जा रहे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को नीमच में पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। पुलिस उन्हें नयागांव लेकर गई है। हिरासत में लेने के बाद राहुल गांधी ने कहा कि अगर आप की विचारधारा आरएसएस से नहीं मिलती है तो आप कहीं नहीं जा सकते। किसानों से ना मिल सकते हैं और ना उन्हें गले लगा सकते हैं। किसानों पर जो गोलियां चलीं, उसके लिए राज्य सरकार और पीएम नरेंद्र मोदी जिम्मेदार हैं। मोदी किसान का ना कर्ज माफ करते हैं और ना बोनस देते हैं, सिर्फ गोली देते हैं। उत्तर प्रदेश में भी मेरे साथ यही किया गया था, जब मैं सहारनपुर पीड़ितों से मिलने जा रहा था।

यह भी पढ़ें....मंदसौर आंदोलन: मध्य प्रदेश के गृह मंत्री ने माना, पुलिस फायरिंग में हुई किसानों की मौत



पुलिस को ऐसे दिया चकमा

इससे पहले पुलिस को चकमा देने के लिए राहुल गांधी कार छोड़कर बाइक से मंदसौर के लिए रवाना हुए थे। वह अपने कारों के काफिले को छोड़कर मोटर साइकिल से सचिन पायलट के साथ हाईवे को छोड़कर कच्चे रास्ते से मंदसौर के लिए निकल पड़े। राहुल ने मंदसौर के करीब पहुंचने से पहले अपने काफिले को छोड़कर मोटर साइकिल की सवारी की। मोटर साइकिल सचिन पायलट चलाई। ये दोनों नेता हाईवे को छोड़कर चेतकहेड़ी के कच्चे रास्ते से मंदसौर की ओर बढ़े।

कांग्रेस के प्रदेषाध्यक्ष अरुण यादव ने बताया, "राहुल हवाई जहाज से उदयपुर पहुंचे और उसके बाद उनकी नया गांव से होते हुए मंदसौर में प्रवेश करने की योजना थी। हालांकि, अंतिम समय में रणनीति में बदलाव किया गया। वह यहां उन किसान परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करने आ रहे हैं, जिनके सदस्य पुलिस की बर्बरता के शिकार हुए। वहीं, जिलाधिकारी स्वतंत्र कुमार सिंह ने बताया कि गांधी को मंदसौर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी गई है।"

बता दें कि राज्य के किसान एक जून से आंदोलन कर रहे है। मालवा-निवाड़ अंचल में किसानों का आंदोलन उग्र बना हुआ है। मंगलवार को पुलिस द्वारा मंदसौर में चलाई गई गोली में पांच किसानों की मौत हो गई थी। इसके बाद बुधवार को आंदोलन की आग आसपास के नीचम, देवास आदि जिलों में भी फैल गई।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story