संक्रांति के बाद सामने आ सकती है टीम राहुल, सैम पित्रोदा का कद बढ़ना तय

Published by aman Published: December 27, 2017 | 11:08 am
Modified: December 27, 2017 | 11:14 am
संक्रांति के बाद सामने आ सकती है टीम राहुल, सैम पित्रोदा का कद बढ़ना तय

लखनऊ: कांग्रेस के नए-नवेले अध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी की कमान संभाले भले ही दो हफ्ते बीत गए हों, लेकिन अभी तक उनकी भावी टीम की तस्वीर साफ नहीं हुई है। कांग्रेस में इस वक्त पुरानी टीम ही काम कर रही है। राहुल संगठन में किसी प्रकार के बदलाव की हड़बड़ी में भी नहीं दिख रहे हैं।

लेकिन जानकारों की मानें, तो राहुल गांधी की नई टीम को लेकर कवायद तेज है। कहा तो यहां तक जा रहा है कि अपनी नई टीम को लेकर आखिरी फैसला राहुल मां सोनिया और बहन प्रियंका से सलाह के बाद ही करेंगे। चर्चा है कि मकर संक्रांति के बाद कांग्रेस में बदलाव की तस्वीर सामने आ सकती है। पार्टी सूत्रों की मानें, तो अभी भी सोनिया की टीम ही ज्यादातर मामलों में रणनीति बना रही है। इनमें अहमद पटेल और मोतीलाल वोरा जैसे नेता शामिल हैं।

क्या होगी अहमद पटेल की भूमिका?
राहुल के हाथ में कमान तो आ गई और संगठन में बदलाव की रूपरेखा भी तैयार की जा रही है। लेकिन इन सबके बीच एक बड़ा सवाल अहमद पटेल की भूमिका को लेकर है। गौरतलब है कि अहमद पटेल कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनैतिक सचिव रहे हैं। आने वाले दिनों में उनकी भूमिका क्या होगी, क्या वही राहुल के भी राजनैतिक सचिव होंगे या कुछ और इसको लेकर अटकलें लगाई जा रही है।

संक्रांति के बाद सामने आ सकती है टीम राहुल, सैम पित्रोदा का कद बढ़ना तय

राहुल और पटेल के बीच की दूरियां घटी हैं
राजनीतिक जानकार बताते हैं कि अहमद पटेल, सोनिया गांधी के सिर्फ राजनैतिक सचिव ही नहीं थे, बल्कि पार्टी के अहम फैसलों में उन्हीं की भूमिका रहती थी। एक समय था जब अहमद पटेल और राहुल के बीच खासी दूरियां थीं। लेकिन कांग्रेस के सत्ता से दूर होने और विपक्ष में आने के बाद इस हालात में बदलाव दिखे हैं। दोनों के बीच अब स्थितियां काफी हद तक सुधरी हैं। इसकी बानगी अहमद पटेल के राज्यसभा चुनाव के दौरान और हाल में हुए गुजरात विधानसभा चुनावों के दौरान भी दिखी थी।

सैम पित्रोदा को अहम भूमिका मिलना तय
माना जा रहा है कि राहुल की नई टीम में अहमद पटेल के साथ कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं को भी जगह मिल सकती है। इनमें गुलाम नबी आजाद और अशोक गहलौत का नाम सबसे ऊपर है। इसके अलावा पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और पी. चिदंबरम तथा आनंद शर्मा का नाम भी है। राहुल की नई टीम में अजय माकन, ज्योतिरादित्य सिंधिया, सचिन पायलट, रणदीप सुरजेवाला, मिलिंद देवड़ा और सैम पित्रोदा को अहम भूमिकाएं मिलना तय माना जा रहा है। पार्टी सूत्रों के अनुसार पित्रोदा हाल के दिनों में राहुल के बेहद करीब रहे हैं और राहुल को भविष्य की रणनीति बनाने में मदद करते रहे हैं।

राज्यों में पार्टी को नए सिरे से दुरुस्त करने की कवायद
संगठन में बदलाव के साथ आने वाले दिनों में विभिन्न प्रदेशों में भी बदलाव देखने को मिल सकता है। राहुल की नई टीम उन राज्यों में पार्टी को नए सिरे से दुरुस्त करेगी जहां आने वाले महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इनमें राजस्थान, कनार्टक, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ को अहम माना जा रहा है। इसके अलावा अन्य राज्यों में भी बड़े बदलाव देखने को मिल सकते हैं।