×

ये है इंडिया! यहां जानवरों से भी कम कीमत पर बिकते हैं बच्चे

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 Oct 2017 12:38 PM GMT

ये है इंडिया! यहां जानवरों से भी कम कीमत पर बिकते हैं बच्चे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

भोपाल : 'सुरक्षित बचपन-सुरक्षित भारत' यात्रा पर निकले नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि 'हमारे देश में बच्चे जानवरों से भी कम कीमत पर बिकते हैं।' 'सुरक्षित बचपन-सुरक्षित भारत' यात्रा का अभिनंदन समारोह यहां शुक्रवार को तात्या टोपे स्टेडियम में आयोजित किया गया। कार्यक्रम में सत्यार्थी ने एक वाकया सुनाकर सभी को हैरत में डाल दिया।

उन्होंने बताया, "मैं एक बार बच्चों को मुक्त कराने गया और बच्चों से पूछा कि तुम्हें कितने-कितने में बेचा गया है, तो किसी ने 10, किसी ने 15 हजार रुपये बताया। तभी एक बोला कि हमारे यहां तो भैंस भी एक से डेढ़ लाख की बिकती है।"

ये भी देखें: जैविक पिता की अनुमति के बिना भी बच्चे को दिया जा सकता है गोद : कोर्ट

सत्यार्थी ने आगे कहा, "इस घटना ने यह साबित कर दिया कि हमारे देश में बच्चों की कीमत जानवरों से भी कम है। समाज में जागृति लाने की जरूरत है। इसके लिए सभी को आगे आना होगा। धार्मिक स्थलों से ज्ञान की बातें तो कहीं जाएं, साथ ही बच्चों से दुराचार करने वालों को समाज से बहिष्कृत किए जाने का भी ऐलान होना चाहिए।"

सत्यार्थी ने बताया कि यह यात्रा समाज से बाल हिंसा के कलंक को खत्म करने के लिए आयोजित की जा रही है। यात्रा 11 सितंबर से शुरू हुई है और देश के 22 राज्यों से होते हुए करीब 11 हजार किलोमीटर की दूरी तय करेगी। यात्रा का समापन 16 अक्टूबर को राष्ट्रपति भवन में होगा।

ये भी देखें: CM योगी करेंगे 30वें विद्या भारती खेलों का उद्घाटन, 500 खिलाड़ी दिखाएंगे अपना दम

उन्होंने कहा, "यह यात्रा लैंगिक उत्पीड़न के प्रति समाज की मानसिकता को बदलने की सामाजिक एवं सांस्कृतिक क्रांति की प्रतीक है।"

इस मौके पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बच्चों के साथ बढ़ती यौन हिंसा की घटनाओं पर चिंता जताते हुए कहा कि राज्य में इसे रोकने के लिए कड़ा कानून बनाया जाएगा। इसके लिए विधानसभा में विधेयक लाया जाएगा, ताकि दोषियों को कठोरतम सजा मिल सके।

चौहान ने शुक्रवार को आह्वान किया, "बाल यौन हिंसा की घातक मानसिकता को जड़ से समाप्त करने के लिए एकजुट होकर कार्य करना होगा, क्योंकि यह मानसिकता स्वस्थ समाज के लिए हानिकारक है।"

ये भी देखें: HRD ने जारी की एडवाइजरी, 10वीं और 12वीं परीक्षा में अब कोई भी बोर्ड नहीं बढ़ाएगा नंबर

मुख्यमंत्री चौहान ने आगे कहा, "मासूमों के साथ दुराचार करने वाले अपराधियों को कठोरतम दंड दिलाने के लिए राज्य सरकार शीध्र ही विधानसभा से विधेयक पारित कर भारत सरकार को भेजेगी। इसके साथ ही समाज में इस प्रकार की विकृत मानसिकता को समाप्त करने के लिए जन-जगरण अभियान चलाना होगा।"

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान एवं सत्यार्थी ने डॉ. अनिल सिरवैया द्वारा बच्चों के लिए तैयार किए गए नॉलेज कैलेंडर का विमोचन किया। इस अवसर पर यात्रा में शामिल लोगों को बाल हिंसा के विरोध में संघर्ष करने का संकल्प दिलाया गया।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story