×

शशि प्रकाश सिंह बने एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 10 Feb 2018 2:40 PM GMT

शशि प्रकाश सिंह बने एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ : केंद्र सरकार ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ के वरिष्ठ वकील शशि प्रकाश सिंह को एडीशनल सॉलिसिटर जनरल नियुक्त किया है। इस संबध में केंद्र के विधि एवं न्याय विभाग ने शुक्रवार को आदेश जारी कर दिया।

यह नियुक्ति जून 2019 या अग्रिम आदेशों तक रहेगी। इस नियुक्ति पर हर्ष व्यक्त करते हुए अधिवक्ता परिषद के सैंकडों कार्यकर्ताओं ने शनिवार को एयरपोर्ट पहुंचकर उनका फूल मालाओं से भव्य स्वागत किया।

सिंह का जन्म 15 सितम्बर 1952 केा हुआ था। उन्हेाने बीएस के बाद एलएलबी पास की और 1978 से हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ में वकालत करना प्रारम्भ किया। सिंह ने पिछली भाजपा सरकार में अपर मुख्य स्थायी अधिवक्ता के पद पर तैनात थे। वे नगर निगम लखनऊ विश्वविद्यालय, कानपुर विश्वविद्यालय एवं बनारस के महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की ओर से हाईकोर्ट में लंबे समय तक पैरवी की। इनके पिता प्रोफेसर कुंवर चंद्र प्रकाश सिंह नामी गिरामी साहित्यकार थे जिन्हें भारत भारती अवार्ड से भी नवाजा गया था।

सिंह आरएसएस के अनुशांगिक संगठन अधिवक्ता परिषद की उत्तर प्रदेश इकाई के वर्षो तक अध्यक्ष रहें एवं वर्तमान मे अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी हैं ।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story