×

सिग्नेचर ब्रिज: उद्घाटन के दौरान पहुंचे सांसद मनोज तिवारी, हुई जमकर धक्का- मुक्की, देखें विडियो

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 4 Nov 2018 11:43 AM GMT

सिग्नेचर ब्रिज: उद्घाटन के दौरान पहुंचे सांसद मनोज तिवारी, हुई जमकर धक्का- मुक्की, देखें विडियो
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: दिल्ली में सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन से पहले ही बीजेपी और आम आदमी पार्टी(आप) के कार्यकताओं के बीच जमकर झड़प हो गई। बीजेपी सांसद मनोज तिवारी वहां अपने समर्थकों के साथ पहुंचे थे।

वे जैसे ही कार्यक्रम स्थल जाने के लिए आगे बढ़े। पुलिस और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने आगे बढ़कर उनका रास्ता रोक लिया। तभी मनोज तिवारी और उनके समर्थकों की पुलिस और आम आदमी पार्टी (आप) के कार्यकर्ताओं के साथ झड़प शुरू हो गई। बहस इतनी बढ़ गई कि सांसद मनोज तिवारी ने गुस्से में आकर मुक्का चला दिया, हालांकि किसी को चोट नहीं आई। हंगामा काफी देर तक जारी रहा।



मालूम हो कि वजीराबाद में यमुना नदी पर बने आठ लेन वाले इस पुल का उद्घाटन मुख्यमत्री अरविंद केजरीवाल करेंगे और सोमवार से इसे आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा। इस पर सभी तरह का वाहन रफ्तार भरते देखे जा सकेंगे।

ब्रिज के बनने का सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि लोगों को ट्रैफिक जाम से निजात मिलेगी। यह उत्तर-पूर्वी दिल्ली, गाजियाबाद और बाहरी दिल्ली को जोड़ेगा।

ब्रिज के मेंटिनेंस के लिए ब्रिज हेल्थ मॉनीटरिंग सिस्टम प्रिपेयर किया गया है। 575 मीटर लंबे इस ब्रिज की सफाई भी यूरोप से आईं हाईटेक मशीनें करेंगी। हेल्थ मॉनीटरिंग सिस्टम के तहत ब्रिज में 104 सेंसर लगाए गए हैं। इनमें से 10 ब्रिज की केबल में और 5 सेंसर फाउंडेशन में लगाए गए हैं, जबकि ब्रिज के अन्य हिस्सों में भी सेंसर लगाए गए हैं। ये सेंसर ब्रिज के हर हिस्से की 24 घंटे निगरानी करेंगे।



ब्रिज में कहीं भी कोई क्षति दिखेगी, तो सेंसर इसकी जानकारी तुरंत देंगे। ब्रिज के सभी सेंसर को एक कंट्रोल रूम से जोड़ा गया है और इसे ब्रिज के शुरू होने से कुछ देर पहले बनाया गया है।

ब्रिज के उद्घाटन के बाद सभी सेंसर को कंट्रोल रूम से कनेक्ट कर दिया जाएगा। कंट्रोल रूम में 24 घंटे ब्रिज की मॉनीटरिंग होगी। गौरतलब है कि 1998 में यमुना में बस गिरने से 22 छात्रों की मौत के बाद सिग्नेचर ब्रिज बनाने का फैसला लिया गया था।

भाजपा सांसद मनोज तिवारी के समर्थकों ने किया हंगामा

सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के मौके पर आम आदमी पार्टी (आप) और बीजेपी के कार्यकर्ताओं के बीच टकराव देखने को मिला। दरअसल, दिल्ली सरकार ने क्षेत्र के भाजपा सांसद मनोज तिवारी को समारोह में शामिल होने के लिए निमन्त्रण नहीं भेजा था।

इससे खफा तिवारी अपने समर्थकों सहित कार्यक्रम स्थल के पास पहुंच गये। उनके समर्थकों ने केजरीवाल के विरोध में जमकर नारे लगाये। वे –बार –बार कार्य्रकम स्थल के नजदीक पहुचंने की कोशिश कर रहे थे लेकिन सुरक्षा बलों ने उन्हें बीच रास्ते में ही रोक दिया।

इस दौरान मनोज के समर्थकों और सुरक्षाबलों के बीच तीखी नोक झोंक भी हुई। पुलिस मनोज तिवारी को रोकने की कोशिश कर रही थी। इस बात से मनोज तिवारी नाराज हो गये। पुलिस और आप के कार्यकताओं के साथ उनकी धक्का -मुक्की शुरू हो गई।

मनोज तिवारी ने रोके जाने पर उठाये सवाल

मनोज तिवारी ने कहा कि मैं यहां का सांसद हूं। मुझें कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया था। इसलिए मैं वहां पर जाने की कोशिश कर रहा हूं। इसमें किसी को क्या आपत्ति हो सकती है। पुलिस मुझें आखिर इस तरह से घेरे हुए क्यों है?

ये भी पढ़ें....

-154 मीटर है ब्रिज की ऊंचाई

-575 मीटर लंबा है और 35.2 मीटर चौड़ा है ब्रिज

-1,518 करोड़ की लागत से 14 साल में तैयार हुआ

ये भी पढ़ें...दिल्ली : प्रदूषण का खतरा बढ़ा, कोयले और बॉयोमॉस से चलने वाली फैक्ट्रियों दस नवंबर तक बंद

ये भी पढ़ें...दिल्ली में CBI पर संग्राम: विपक्षी दलों का विरोध प्रदर्शन,राहुल गांधी ने दी गिरफ्तारी

ये भी पढ़ें...मेरठ में लूट के विरोध पर दिल्ली पुलिस के सिपाही की हत्या

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story