×

चीनी मिलों पर गन्ना उत्पादकों का बकाया 11,500 करोड़, सिर्फ UP का 8,500 Cr.

aman

amanBy aman

Published on 26 Feb 2018 12:44 PM GMT

चीनी मिलों पर गन्ना उत्पादकों का बकाया 11,500 करोड़, सिर्फ UP का 8,500 Cr.
X
चीनी मिलों पर गन्ना उत्पादकों का बकाया 11,500 करोड़, सिर्फ UP का 8,500 Cr.
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: देशभर में गन्ना उत्पादकों का चीनी मिलों पर बकाया बढ़कर करीब 11,500 करोड़ रुपए हो गया है। यूपी के किसानों का सबसे ज्यादा बकाया 8,500 करोड़ रुपए हो गया है। चीनी उद्योग संगठनों का कहना है कि उत्पादन लागत के मुकाबले चीनी का बाजार भाव कम होने से मिलों को घाटा हो रहा है जिसके कारण किसानों को गन्ने का दाम समय पर नहीं मिल पा रहा है।

नेशनल फेडरेशन ऑफ को-ऑपरेटिव शुगर फैक्टरीज लिमिटेड के महानिदेशक प्रकाश नाइकनवरे ने कहा, कि 'चीनी मिलों को प्रति क्विंटल 500 रुपए का घाटा हो रहा है। मिलों को एक क्विंटल चीनी उत्पादन पर करीब 3,650 रुपए की लागत आती है जबकि चीनी का बाजार भाव अभी 3,150-3,250 रुपए प्रति क्विंटल है। यही कारण है कि चीनी मिलें गन्ना उत्पादकों को समय पर भुगतान नहीं कर पा रही हैं।'

नाइकनवरे के मुताबिक, जब तक चीनी के बाजार भाव में बढ़ोतरी नहीं होगी मिलों पर गन्ना किसानों के बकाए का बोझ बढ़ेगा। उन्होंने कहा, 'पिछले दिनों चीनी पर आयात शुल्क बढ़ाए जाने पर कीमतों में सुधार आया था, लेकिन फिर गिरावट आ गई है जिससे देशभर में गन्ना किसानों का बकाया पिछले हफ्ते तक बढ़कर 11,500 करोड़ रुपए हो गया है। उत्तर प्रदेश में मिलों पर करीब 8,500 करोड़ रुपए का बकाया अब तक हो चुका है। वहीं, महाराष्ट्र में गन्ना उत्पादकों का बकाया 2,500 रुपए है। बाकी अन्य प्रदेशों में है।'

मिलों को गन्ने की खरीद के बाद निर्धारित 14 दिन के भीतर किसानों को भुगतान करना होता है, अगर इस अवधि में भुगतान नहीं किया गया तो उसे बकाया कहलाता है। उत्तर प्रदेश में चीनी का फैक्टरी गेट मूल्य अथवा एक्स मिल रेट इस समय करीब 3,200-3,250 रुपए और महाराष्ट्र में 3,100-3,150 रुपए प्रति क्विंटल है।

इस साल देश में चीनी का उत्पादन करीब 260 लाख टन रहने का अनुमान है जबकि खपत करीब 240-245 लाख टन के आसपास बताया जा रहा है। ऐसे में 15-20 लाख टन चीनी की अधिक आपूर्ति होने की वजह से कीमतों पर दबाव बना हुआ है। चालू गन्ना पेराई सत्र 2017-18 (अक्टूबर-सितंबर) में 15 फरवरी 2018 तक देशभर में कुल 203.14 लाख टन चीनी उत्पादन हो चुका है।

चीनी मिलों का संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन प्रेसिडेंट गौरव गोयल ने कहा कि आपूर्ति आधिक्य से जो घरेलू बाजार में कीमतों में गिरावट आई है और उसके परिणामस्वरूप मिलों पर दबाव है और उससे उबरने के लिए चीनी का निर्यात ही एकमात्र कारगर विकल्प है। उन्होंने कहा, 'इस समय अंतरराष्ट्रीय बाजार में चीनी की कीमतें भारत के मुकाबले काफी कम है। ऐसे में निर्यात के लिए सरकार की ओर से प्रोत्साहन की दरकार है।'

आईएनएस

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story