×

दिल्ली : रिपोर्ट में हुआ खुलासा, भुखमरी से ही हुई थी 3 बच्चियों की मौत

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 16 Nov 2018 2:50 PM GMT

दिल्ली : रिपोर्ट में हुआ खुलासा, भुखमरी से ही हुई थी 3 बच्चियों की मौत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: दिल्ली के मंडावली इलाके में जुलाई में तीन बच्चियों की भुख से तड़पते हुए मौत हो गई थी। एक निजी न्यूज़ चैनेल ने उस समय इस खबर को प्रमुखता से उठाया था।

क्या है मामला

ये तीनों बच्चियां सगी बहनें थीं। इन्हें कई दिनों से खाना नहीं मिला था। इन बच्चियों की विसरा रिपोर्ट अब आई है। जिनके मुताबिक उनके शरीर कोई ज़हर नहीं मिला है। तीनों बहनों के 2 पोस्टमॉर्टम हुए थे। एक लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में जबकि दूसरा जीटीबी में हुआ था।

आपको बता दें, आठ साल की मानसी, चार साल की शिखा और दो साल की पारुल का शव मंडावली में एक कमरे से बरामद हुआ था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला था कि तीनों की मौत 25 जुलाई को अल सुबह हुई और मौत की वजह थी कुपोषण। पोस्टमार्टम में खाने का एक अंश भी नहीं मिला था। पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों ने बताया था कि बच्चियों को सात-आठ दिन से खाना नहीं मिला था।

ये भी देखें : राजस्थान इलेक्शन : सीएम इन वेटिंग अशोक और सचिन लड़ेंगे चुनाव

ये भी देखें :आम चुनाव 2019: थरूर के खिलाफ इस मलयालम सुपरस्टार को उतार सकती है BJP

ये भी देखें :राजस्थान चुनाव: ये लगा जोर का झटका, बीजेपी सांसद हरीश मीणा कांग्रेस में शामिल

ये भी देखें :राजस्थान इलेक्शन : बीजेपी MLA ने कहा, मुस्लिम होने की वजह से नहीं मिला टिकट

ये भी देखें :इलेक्शन 2018 : राजस्थान में टिकट कटा तो मंत्री ने दिया पार्टी से इस्तीफा

बच्चियों की मां वीणा मानसिक रोगी है। वीणा ने बताया बच्चियों को कई दिन से उल्टियां आ रही थीं। इसलिए खाना नहीं दिया। उनको उल्टी और खांसी हो रही थी। बच्चियों के पिता मंगल सिंह रिक्शा चला रहे थे। इस घटना के कुछ दिन पहले उनका रिक्शा चोरी हो गया तो मकान मालिक ने घर से निकाल दिया। क्योंकि रिक्शा मकान मालिक का था। इसके बाद मंगल के दोस्त नारायण यादव ने उनके परिवार को अपने कमरे में पनाह दी थी।



नारायण यादव ने बताया, जब मंगल को घर से निकाल दिया तो मैं बच्चों को अपने घर ले आया। इसके बाद मंगल काम की तलाश में निकल गए और अब तक उनका पता नहीं चल सका है। इसी बीच तीनों बेटियों की मौत हो गई। पड़ोसियों के मुताबिक उन्हें अगर पता होता कि बच्चियों को खाना नहीं मिल रहा है तो वे जरूर खिलाते।

इस मामले में दिल्ली सरकार ने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दे दिए थे।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story