बेटियों के लिए इस राज्य के लोगों का भी पिघला दिल, नेम प्लेट्स पर दिया जाने लगा इनका नाम

Published by suman Published: May 12, 2017 | 9:55 am
Modified: May 12, 2017 | 10:15 am

गुरुग्राम:  राष्ट्रीय राजधानी से सटे गुरुग्राम में एक गांव के निवासियों ने अपने घरों के नेमप्लेट में लड़कियों का नाम रखने का फैसला किया है। हरियाणा लैंगिक पूर्वाग्रह को लेकर बदनाम राज्य माना जाता है। यहां से लगभग 17 किलोमीटर दूर सोहना के निकट अलीपुर गांव के निवासियों ने अपने घर के मुख्य द्वार पर अपनी बेटियों के नाम का नेमप्लेट लगाना शुरू किया है।
अलीपुर उन पांच गांवों (चार गुरुग्राम के और एक मेवात का) में शामिल है, जिसे राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने इस साल शुरू की गई आदर्श ग्राम योजना पहल के तहत मॉडल गांव बनाने के लिए गोद लिया है।

आगे…

गांव में एक घर के मुख्य द्वार पर पहले पवन कुमार के नाम का नेमप्लेट लगा था, लेकिन अब नेमप्लेट में उनकी बेटी मोनिका का नाम है।  गांव के एक निजी स्कूल में माध्यमिक कक्षा की छात्रा मोनिका नेमप्लेट पर अपना नाम देखकर बेहद रोमांचित व उत्सुक है। मोनिका की मां मीना घरेलू महिला हैं, जबकि पिता पवन कुमार किसान हैं। गांव की सरपंच ममता डागर द्वारा शुरू किए गए ‘लाडो स्वाभिमान उत्सव’ अभियान के तहत गांव के फैसले पर दंपति बेहद खुश है।

आगे…

अलीपुर में 5,000 से अधिक लोग रहते हैं और यह 700 घरों के नेमप्लेट बदलने का इच्छुक है। कुछ लोगों ने अपना नेमप्लेट पहले ही बदल दिया है, जबकि कुछ ने बेटियों व पोतियों के नाम से नए नेमप्लेट के ऑर्डर दिए हैं। डागर ने कहा कि ग्रामवासी अपनी बेटियों तथा पोतियों के नाम पर पौधे भी लगा रहे हैं और पौधे की सबसे अच्छी देखभाल करने वाले परिवार को सम्मानित किया जाएगा।  साल 2011 की जनसंख्या के मुताबिक, अलीपुर की कुल आबादी में 1,789 पुरुष तथा 1,609 महिलाएं हैं।

सौजन्य: आईएएनएस

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App