Top

योगी के गोरखपुर का रामवृक्ष है रामलाल, 10 साल से पार्क पर कब्ज़ा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 18 April 2017 3:11 PM GMT

योगी के गोरखपुर का रामवृक्ष है रामलाल, 10 साल से पार्क पर कब्ज़ा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर : जिले के बड़हलगंज में रामलाल यादव पिछले 10 वर्षों से नेताजी सुभाष चंद्र बोस पार्क पर कब्जा जमाए बैठा है। दबंगई का आलम यह है, कि पार्क में बनी पुलिस बैरक को भी इनके इशारे पर हटा दिया गया। ऐसा नहीं कि शिकायत नहीं हुई, लेकिन कोई कब्ज़ा हटवा नहीं पाया।

ये भी देखें : छोटे भाई की फीस नहीं दी तो बड़े भाई का रिपोर्ट कार्ड रोका, अभिभावक ने लगाई न्याय की गुहार

करीब दो दशक पहले अंबेडकर चौराहे पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस पार्क की स्थापना हुई। पार्क में फूल पौधों व लोगों के बैठने के लिए बेंच आदि लगवाया गया। विभाग के कर्मचारी भी तैनात किये गए। शाम को ये पार्क गुलजार रहता था, लेकिन इसे भैसौली गांव के रामलाल यादव की नजर लग गयी। उसने पार्क पर कब्ज़ा कर लिया। आसपास के लोगों ने इसकी शिकायत तहसील व पुलिस अधिकारियों से की, प्रशासन ने कब्जा हटवाया और यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही की। लेकिन उसके बाद भी रामलाल का कब्जा पार्क में बरकरार रहा। दबंगई को देखते हुए पुलिस ने पार्क में बैरक बनवा दिया, लेकिन उसे भी हटाना पड़ा। लेकिन यादव नहीं हटा, अब पार्क में खेती होती है और पुलिस बैरक में रामलाल रहता है।

आपको बता दें, पार्क के निर्माण के लिए पूर्व कैबिनेट मंत्री हरिशंकर तिवारी ने 8,35,000 रूपए अपनी विधायक निधि से दिए और उद्यान विभाग ने भी लगभग 2.5 लाख इस पार्क पर खर्च किये। पार्क लगभग एक एकड़ में स्थित है, उद्यान विभाग ने यहाँ दो माली भी नियुक्त किए थे।

स्थानीय नागरिक लाल बहादुर मिश्रा ने बताया कि 10 ,15 वर्ष पहले पार्क हरा-भरा था। आज के समय में उस पार्क के कुछ अराजक तत्व आ कर काबिज हो गए है, और गाय-भैंस पाल ली हैं यहाँ खेती करते हैं। कई बार प्रशासन ने इस पार्क को खाली कराया, लेकिन ये लोग वापस इस पार्क में आ जाते हैं।

जबकि राम लाल यादव का कहना है, कि हम बचपन से ही इस पार्क की जमीन पर रहते हैं। यह जमीन पहले जमींदारों की थी, हम लोग यहाँ पर बसे हुए हैं। प्रशासन नहीं पत्रकार लोग हम लोगों को हटवाने में लगे हुए है। यह बात 1998 से चल रही है। 4 वर्षों तक पुलिस फोर्स यहाँ पर रही। यहाँ बिजली का बिल हम जमा करते हैं। यहाँ पर जमीन, घर, जानवर और दुकान सब हमारा है। जो जहाँ रहता है जमीन उसकी ही होती हैं। किताब में लिखा है, कि जो 100 वर्ष तक एक जमीन पर रहेगा वो उसकी हो जाती है। दो वर्ष पहले ही पुलिस वाले यहाँ से गए है।

वही एसडीएम गौरव श्रीवास्तव का कहना है, कि यहाँ पर एक पार्क बना हुआ है। इसकी जांच की गई है। मौके पर जा कर देखा गया तो पता चला कि रामलाल नाम का एक व्यक्ति है जो यहाँ बने मकान में अपने परिवार वालों के साथ रह रहा है। मामला अभी सिविल न्यायालय में विचाराधीन है, इस लिए अभी कोई कार्यवाही किया जाना उचित नहीं है।

देखें तस्वीरें :

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story