×

CITI का बयान- घरेलू कपड़ा उद्योग का बुरा दौर हुआ खत्म, मिल रहे सुधार के संकेत

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 25 Aug 2018 3:23 AM GMT

CITI का बयान- घरेलू कपड़ा उद्योग का बुरा दौर हुआ खत्म, मिल रहे सुधार के संकेत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज (CITI) के अध्यक्ष संजय जैन ने कहा कि देश के कपड़ा उद्योग का बुरा दौर समाप्त हो गया है और अब सुधार के संकेत मिल रहे हैं। संजय जैन ने कहा कि चालू वित्त वर्ष 2018-19 में भारत का वस्त्र एवं परिधान निर्यात सात फीसदी सालाना दर से बढ़ सकता है।

यह भी पढ़ें: केजरीवाल की सभा में शिरकत करना इस BJP सांसद को पड़ा भारी, इस तरह हुआ स्वागत

उन्होंने बताया कि बीते महीने जुलाई में देश का कपड़ा निर्यात पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 11 फीसदी बढ़ा है और कपड़े के सभी मदों के निर्यात में वृद्धि दर्ज की गई।

संजय जैन ने कहा कि सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से उद्योग को सहारा मिला है। उन्होंने कहा कि सरकार ने वस्त्र और परिधान के विभिन्न मदों पर आयात कर बढ़ा कर घरेलू उद्योग को प्रोत्साहन दिया है और इससे आने वाले दिनों में कपड़े का आयात घटेगा जिससे घरेलू उद्योग को मदद मिलेगी।

भारत ने जुलाई में 6,284 करोड़ रुपये का कॉटन यार्न, फेब्रिक, मेडअप और हैंडलूम उत्पादों का निर्यात किया जोकि पिछले साल के मुकाबले 23 फीसदी ज्यादा है।

टेक्सटाइल निर्यात 10,879 करोड़ रुपये रहा, जोकि पिछले साल के मुकाबले 15 फीसदी अधिक है। कॉरपेट निर्यात 774 करोड़ रुपये का हुआ जोकि पिछले साल के मुकाबले 14 फीसदी ज्यादा है। अपेरल निर्यात में पिछले साल के मुकाबले इस साल जुलाई में छह फीसदी की बढ़ोतरी हुई।

--आईएएनएस

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story