×

गौरी लंकेश मर्डर केस : एसआईटी ने जारी किए संदिग्धों के स्केच

जर्नलिस्ट और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की हत्या की जांच कर रही विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने शनिवार को तीन व्यक्तियों के तीन स्केच जारी किए हैं। इन पर उनकी हत्या का संदेह है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 14 Oct 2017 8:55 AM GMT

गौरी लंकेश मर्डर केस : एसआईटी ने जारी किए संदिग्धों के स्केच
X
गौरी लंकेश मर्डर केस :एसआईटी ने जारी किए संदिग्धों के स्केच
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

बेंगलुरू : वरिष्ठ पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की हत्या मामले की जांच कर रही विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने शनिवार को तीन व्यक्तियों के स्केच जारी किए, जिन पर हत्या में शामिल रहने का संदेह है। पुलिस महानिरीक्षक और एसआईटी प्रमुख बी.के. सिंह ने बताया, "प्रत्यक्षदर्शियों द्वारा दिए गए विवरण के आधार पर तीन संदिग्धों के स्केच बनाए गए हैं, जिनमें से दो की शक्ल मिलती-जुलती है।"

चर्चित कन्नड़ सप्ताहिक 'लंकेश पत्रिके' की संपादक गौरी लंकेश की पांच सितंबर को बेंगलुरू स्थित उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस दर्दनाक घटना से समूचा देश स्तब्ध रह गया। आक्रोश में कर्नाटक और राष्ट्रीय राजधानी सहित कई राज्यों में प्रदर्शन किए गए। खासकर पत्रकार बिरादरी ने लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमले की भर्त्सना की और देश में पत्रकारों पर बढ़ते खतरे को लेकर चिंता प्रकट की। प्रदर्शनों का सिलसिला अभी थमा नहीं है।

एसआईटी प्रमुख ने कहा, "हमें दो वीडियो क्लिप मिली हैं, जिसमें गौरी के घर के बाहर एक मोटरसाइकिल सवार दिख रहा है। गौरी की हत्या में उसके शामिल होने का अंदेशा है।"

हत्या की पिछले एक माह से हो रही जांच के बारे में जानकारी देते हुए सिंह ने बताया कि सभी संदिग्ध 25 से 35 वर्ष की उम्र के हैं और हत्या करने से पहले ये सभी करीब एक सप्ताह यहां रहे थे।

यह भी पढ़ें ... गौरी लंकेश की हत्या पर उदारवादियों, बुद्धिजीवियों पर प्रसाद ने साधा निशाना

उन्होंने कहा कि यह संदेह है कि ये लोग गौरी लंकेश के घर के आस-पास रह रहे थे और इन लोगों ने हत्या करने से पहले गौरी के घर की टोह (रेकी) ली थी।

सिंह ने कहा कि एसआईटी ने जांच के सिलसिले में अब तक 200-250 लोगों से पूछताछ की है। उन्होंने कहा, "हम लोगों से इन हमलावरों को तलाशने में उनके ठिकानों की जानकारी देने में मदद करने का आग्रह करते हैं।"

एसआईटी ने संदिग्धों के स्केच के साथ गौरी लंकेश के घर के पास सीसीटीवी कैमरे में कैद दो वीडियो क्लिप भी जारी की। वीडियो में एक मोटरसाइकिल सवार को देखा जा सकता है।

यह भी पढ़ें ... गौरी लंकेश के जाने के बाद उपजा सवाल: ह्त्या, वध या विमर्श!

सिंह ने कहा कि जो व्यक्ति हत्यारों से संबंधित पुख्ता सूचना देगा, उन्हें राज्य सरकार ने बतौर इनाम 10 लाख रुपये देने का निर्णय लिया है। इनाम तय किए जाने की घोषणा कर्नाटक के गृहमंत्री रामालिंगा रेड्डी ने सितंबर में ही की थी।

सिह ने कहा, "यह लोगों की मदद से ही संभव हुआ है कि हमलोग इस जांच में यहां तक पहुंचे और हत्यारों के स्केच जारी कर सके।" उन्होंने कहा कि 150 सदस्यीय एसआईटी बिना किसी भेदभाव के मामले की जांच कर रही है और स्केच के आधार पर संदिग्धों की तलाश कर रही है।

सिंह ने कहा, "हम केवल सबूत के आधार पर काम करते हैं और अभी तक की जांच में इन संदिग्धों के पीछे किसी खास संस्थान या संगठन का हाथ होने की जानकारी नहीं मिली है।"

यह भी पढ़ें ... सनातन संस्था का बयान- गौरी की हत्या में हम शामिल नहीं

सिंह ने कहा, "हमने गौरी लंकेश के घर के बाहर लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर अपना जांच शुरू किया और हमने कम से कम 75 टेराबाइट(टीबी) वीडियो फुटेज को खंगाला।

गौरी लंकेश की हत्या के एक दिन बाद राज्य सरकार ने हत्या की जांच के लिए अपराध जांच शाखा (सीआईडी) के अधीन एसआईटी का गठन किया था। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी सहित कई विपक्षी नेताओं ने गौरी लंकेश की हत्या के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस)-भाजपा की विचारधारा को जिम्मेदार ठहराया है।

55 साल की गौरी लंकेश धर्मनिरपेक्ष देश में हिंदूवाद को बढ़ावा दिए जाने के खिलाफ लिखती रही हैं। वह अन्य अखबारों के लिए भी कॉलम लिखती थीं और समाचार चैनलों के डिबेट में शामिल होती थीं। उन्होंने राणा अय्यूब की किताब 'गुजरात फाइल्स' का कन्नड़ में अनुवाद भी किया है। उन्हें श्रीराम सेने सहित कई दक्षिणपंथी संगठनों से धमकियां मिलती रही हैं। एक भाजपा नेता ने उन पर मानहानि का मुकदमा भी किया था।

यह भी पढ़ें ... RSS के खिलाफ ना लिखती, तो आज जिंदा होती गौरी लंकेश-BJP नेता

हाल ही में राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता कन्नड़ अभिनेता प्रकाश राज ने गौरी लंकेश की हत्या पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर नाराजगी जताई है और इस बात को लेकर आपत्ति जताई है कि प्रधानमंत्री सोशल मीडिया पर गौरी लंकेश का मजाक उड़ाने वालों को फॉलो कर रहे हैं।

--आईएएनएस

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story