Top

मदर टेरेसा की संस्था से बिक रहे थे बच्चे, ऐसे हुआ खुलासा

Charu Khare

Charu KhareBy Charu Khare

Published on 6 July 2018 5:05 AM GMT

मदर टेरेसा की संस्था से बिक रहे थे बच्चे, ऐसे हुआ खुलासा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रांची : मदर टेरेसा की बहुविख्यात संस्था मिशनरीज ऑफ चैरिटी पर नवजात बच्चों को बेचे जाने का आरोप लगा है। इस मामले में संस्था की कर्मचारी अनिमा को कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

कहा जा रहा है कि इस मामले में महिला कर्मचारी के साथ-साथ चैरिटी होम की महिला संचालक भी शामिल है। चाइल्ड वेलफेयर कमेटी (CWC) की जांच में इस तथ्य का खुलासा हुआ है कि एक बच्चा के एवज में 1.20 लाख रुपये तक लिये गये। फिलहाल बाल कल्याण समिति ने नवजात बच्चे को इस समिति से बरामद कर एक अन्य संस्था में रखा गया है।

राजधानी रांची के इस्ट जेल रोड स्थित मिशनरीज ऑफ चैरिटी होम में अवैध रूप से नवजातों की बिक्री का खुलासा CWC की अध्यक्ष रूपा कुमारी ने बुधवार को समाहरणालय स्थित कार्यालय में किया।

मदर टेरेसा की संस्था में बेचे जा रहे थे बच्चे, ऐसे पकड़ा गया रैकेट

उन्होंने बताया कि होम की कर्मचारी अनिमा इंदवार को कोतवाली पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। उसने खुद स्वीकार किया कि अब तक आधा दर्जन नवजात को चैरिटी होम की संचालिका सिस्टर कोनसीलिया के साथ मिलकर बेच चुकी है।

यह भी पढ़ें - पंजाब की इन जगहों की लस्सी है फेमस, पीते ही लग जाएगी लत

अनिमा ने कहा है कि बच्चा देने के एवज में 50 हजार से 1.20 लाख रुपये तक लिये गये हैं। अध्यक्ष के मुताबिक, फिलहाल आधा दर्जन बच्चों के बेचे जाने का मामला सामने आया है। चैरिटी होम की संचालिका से पूछताछ के दौरान और भी नये खुलासे होंगे।

मदर टेरेसा की संस्था में बेचे जा रहे थे बच्चे, ऐसे पकड़ा गया रैकेट

CWC की अध्यक्ष रूपा कुमार ने बताया है कि मानव तस्करी से मुक्त करायी गयी या पायी गयी वैसी नाबालिग युवतियां, जो अविवाहित रहते गर्भवती हो जाती हैं, उन्हें ‘निर्मल हृदय’ मिशनरीज ऑफ चैरिटी में आश्रय दिया जाता है।इसकी पूरी जानकारी बाल कल्याण समिति को होती है।

Charu Khare

Charu Khare

Next Story