Top

जाने-माने फोटोजर्नलिस्ट के साथ SP ईस्ट और इंस्‍पेक्‍टर की गुंडई, SSP बोले- होगी कार्रवाई

shalini

shaliniBy shalini

Published on 15 Jun 2018 8:12 AM GMT

जाने-माने फोटोजर्नलिस्ट के साथ SP ईस्ट और इंस्‍पेक्‍टर की गुंडई, SSP बोले- होगी कार्रवाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: योगी सरकार में आए दिन पत्रकारों के साथ पुलिस की दबंगई और अभद्रता का मामला सामने आ रहा है। शुक्रवार को सीएम योगी आदित्‍यनाथ के जनसंपर्क कार्यक्रम की कवरेज के दौरान newstrack.com के फोटोजर्नलिस्‍ट आशुतोष त्रिपाठी से एसपी ईस्‍ट सर्वेश मिश्रा और इंस्‍पेक्‍टर हजरतगंज आनंद शाही ने अभद्रता की सारी हदें पार कर दीं। इतना ही नहीं, अभद्रता का विरोध करने पर एसपी ईस्‍ट ने अपना आपा खो दिया और खुद फोटोजर्नलिस्‍ट से अभद्रता पर उतारू हो गए।

झूठे मुकदमे में फंसाने की दी धमकी

सीएम योगी आदित्‍यनाथ के जनसंपर्क कार्यक्रम की कवरेज करके लौट रहे फोटोजर्नलिस्‍ट आशुतोष त्रिपाठी की गाड़ी को एसपी ईस्‍ट सर्वेश मिश्रा के ड्राइवर ने लापरवाही से बैक करते समय ठोंक दिया। इस बात का जब आशुतोष ने विरोध किया तो पहले ड्राईवर गाली गलौज पर आमादा हो गया। इसके बाद मौके पर पहुंचे इंस्‍पेक्‍टर आनंद शाही ने गाली गलौज करते हुए आशुतोष का कॉलर पकड़ कर उसे घसीटा। इतना ही नहीं, विवादित इंस्‍पेक्‍टर ने अपने रूतबे का हवाला देते हुए फोटोजर्नलिस्‍ट को अपशब्‍द कहे।

इसी समय मौके पर पहुंचे एसपी ईस्‍ट सर्वेश मिश्रा से जब फोटोजर्नलिस्‍ट ने इंस्‍पेक्‍टर की दबंगई की शिकायत की, तो एसपी ईस्‍ट ने विवादित इंस्‍पेक्‍टर पर कार्यवाही के बजाय आशुतोष पर ही दबाव बनाना शुरू कर दिया। एसपी ईस्‍ट अपना आपा खो बैठे और खुद आगे बढ़कर आशुतोष की बाइक की चाभी निकाल ली। उन्‍होंने गाली गलौज करते हुए कहा कि इतने मुकदमे लगा दूंगा कि सारी जिंदगी जेल से बाहर नहीं निकल पाओगे।

इतना कहते हुए उन्‍होंने आशुतोष की गाड़ी और कैमरे सहित बैग को कब्‍जे में लेते हुए उसे हिरासत में लेने लगे। इतना ही नहीं उन्‍होंने मुकदमा लिखने के लिए इंस्‍पेक्‍टर को निर्देशित भी किया। मामले की जानकारी देने के लिए जब एसएसपी दीपक कुमार को फोन किया गया तो उन्‍होंने फोन उठाना जरूरी नहीं समझा।

खुद को सरकार का खास बताता है इंस्‍पेक्‍टर

हजरतगंज के विवादित इंसपेक्‍टर आनंद शाही इससे पहले गोरखपुर में तैनात रहे हैं। वह खुद को गोरक्षनाथ मठ का करीबी बताते हैं। उनको कई बार यह कहते सुना गया है कि जहां चाहूंगा, जब चाहूंगा अपनी पोस्टिंग करवा लूंगा। इतना ही नहीं उनके थाने के पुलिसकर्मी इंस्‍पेक्‍टर की पकड़ पंचम तल तक होने की बात करते नजर आते हैं। इतना ही नहीं उनके डीजीपी आफिस में भी गहरी पैठ की चर्चाएं आम रहती हैं। वह एसएसपी के सबसे चहेते इंसपेक्टरों में शुमार हैं।

कार्यवाही पर अड़े मीडियाकर्मी

जाने माने फोटोजर्नलिस्‍ट आशुतोष त्रिपाठी के साथ अभद्रता की जानकारी होते ही मीडियाकर्मियों ने एसएसपी आवास का घेराव कर लिया। बड़ी संख्‍या में मीडियाकर्मियों के पहुंचने से एसएसपी दीपक कुमार नींद से जागे। इस दौरान मामला मैनेज करने के लिए एसएसपी, एसपी ईस्‍ट और इंस्‍पेक्‍टर हजरतगंज जोड़ तोड करने लगे। लेकिन पत्रकार विवादित इंस्‍पेक्‍टर और एसपी ईस्‍ट पर कार्यवाही की मांग को लेकर अड़े रहे।

एसएसपी ने दिया आश्‍वासन

मामले की जानकारी होने पर newstrack.com के संपादक योगेश मिश्र खुद एसएसपी कैंप कार्यालय पहुंचे। उन्‍होंने एसएसपी दीपक कुमार से तत्‍काल कार्यवाही करने की मांग की। इस पर हरकत में आए एसएसपी दीपक कुमार ने इंस्‍पेक्‍टर आनंद शाही और एसपी ईस्‍ट को कार्यमुक्‍त करने का आश्‍वासन दिया।

shalini

shalini

Next Story