×

अखिलेश सरकार में हुई भर्तियों की होगी सीबीआई जांचः योगी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 19 July 2017 1:42 PM GMT

अखिलेश सरकार में हुई भर्तियों की होगी सीबीआई जांचः योगी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ जब बजट पर बोलने के लिए सदन में आए, तो बीजेपी विधायकों ने जय श्री राम के नारे के साथ उनका स्वागत किया। अपने बजट उद्बोधन में उन्होंने विपक्ष पर हमला बोला। पूर्व सपा सरकार के काम पर भी सवाल उठाते हुए सीएम ने कहा पिछली सरकार विकास शब्द का मतलब नहीं जानती थी।

मुख्यमंत्री योगी ने पूर्व की सपा सरकार के समय में हुई भर्तियों की सीबीआइ जांच कराने का एलान किया है। उन्होंने कहा है, कि भर्तियों में धांधली की सारी जांचें होगी और कोई दोषी बचेगा नहीं।

उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग में डेढ़ लाख पद खाली हैं और पिछले दस वर्षों में कोई नियुक्ति ऐसी नहीं हुई जिस पर अंगुली न उठी हो।

योगी ने कहा खाली खज़ाना मिला था, लेकिन काम करना था। तय किया था प्रदेश के किसी नागरिक को गिरवी नहीं रखेंगे। उत्तर प्रदेश के इतिहास में पहली बार इतना बड़ा बजट पेश किया गया, प्रदेश का चीरहरण किया गया था।

ये भी देखें:शिक्षा विभाग का सर्वे: सरकारी स्कूलों में शौचालय के निर्माण की रिपोर्ट, ये रहें आंकड़े

उन्होंने कहा सपा सरकार दोबारा आती तो सरकारी कर्मचारियों को वेतन नहीं मिल पाता। 30 हज़ार करोड़ सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को दिया।

कृषि के 67 हज़ार करोड़ दिए, जो पिछली सरकार में 29 हज़ार करोड़ था।

सीएम ने कहा किसानों, नौजवानों और महिलाओं का बजट है ये, हर तबके को महत्व दिया गया है। सपा पर हमला करते हुए सीएम ने कहा समाजवादी पार्टी के लोगों को शिक्षा का विरोधी माना जाता है। कौशल विकास का भी विरोधी माना जाता है, उन्हें हमारी सरकार ने शिक्षा और कौशल विकास के लिए बजट को बढ़ाया है।

उन्होंने कहा ग्राम्य विकास के लिए 18 हज़ार करोड़ दिए, जो पिछले बजट से 7 प्रतिशत अधिक है। संतुलित बजट पेश किया हमने। सबके लिए काम किया इस बजट में।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, पंडित दीनदयाल उपाध्याय का जन्मशती वर्ष है। सरकार इसे धूमधाम से मनाएगी, मुगलसराय का नाम पंडित दिन दयाल उपाध्याय के नाम पर होगा। प्रदेश के हर तबके को समर्पित बजट है। प्रदेश के इतिहास का सबसे बड़ा बजट है। प्रदेश में नारे तो बहुत लगते थे, लेकिन कभी किसान प्रदेश की राजनीति का केंद्र बिंदु नही बना। सिर्फ जाति और धर्म के साथ परिवारवाद ही केंद्र बिंदु रहा।

उन्होंने कहा हम समाज के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति को बजट का लाभ पहुचायेंगे। 86 लाख किसानों का फसली ऋण माफ करने का बीड़ा हमने उठाया। लेकिन बैंकर्स पीछे हटने लगे, क्योंकि पहले की सरकारों ने अपनी विश्वसनीयता खो दो थी। खजाना खाली है।

सीएम ने कहा हम प्रदेश को किसी के यह गिरवी नही रखेंगे। सबको स्वावलंबी बनाएंगे। विरासत में हमे जर्जर व्यवस्था मिली। प्रदेश की अन्य बुनियादी सुविधाएं नही मिल रही है, तो फिर ढांचागत विकास कैसे होगा, इसलिए 4 लाख करोड़ का भारी भरकम बजट पेश किया गया। किसानों की कर्जमाफी से लेकर सातवें वेतन की सिफारिशों का भी बजट में प्रावधान किया।

योगी ने कहा प्रदेश में जाति-धर्म की तुष्टिकरण नही बल्कि प्रदेश के हर व्यक्ति को बजट का लाभ मिलेगा। जो लोग बजट पेश करने से पहले हमसे भागते थे, वो आज हमारे साथ काम करना चाहते है। क्योंकि विश्वास जागा है।

सीएम ने कहा नेता प्रतिपक्ष का भाषण मैने सुना ऐसा लग जैसे सीधे बलिया से आ रहे हों।

उन्होंने कहा 37910.73 कृषि कार्यो के लिए हमने बजट में प्रावधान किया जो पिछली सरकार के बजट से कही ज्यादा है। पंचायती राज विभाग में 30 परसेंट ज्यादा बजट दिया है। शिक्षा के लिए 62000 करोड़ से भी ज्यादा का प्रावधान किया, छात्रवृति के लिए भी पिछली वर्ष से ज्यादा का प्रावधान किया है

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story