ALERT: अगर आपके बच्चे में भी लग रही है ये लत तो फिर हो जाइए अभी से सावधान

लखनऊ:   बच्चों का मन बहुत ही नाजूक होता है, इसलिए उनके बचपन को सही दिशा देने के लिए पैरेंट्स को बहुत पापड़ बेलने पड़ते हैं।  खासकर हर पैरेंट्स की ख्वाहिश होेती हैै कि उसका बच्चा नेक दिल और सच्चा बनें। किसी से झूठ ना बोले। बच्चे अक्सर अपनी गलतियां छुपाने के लिए झूठ बोल देते हैं बिना ये सोचे कि इस झूठ के क्या परिणाम होंगे। कभी- कभी प्यार में पैरेंट्स भी बच्चों के झूठ को नंजर अंदाज कर देते है जो बिल्कुल भी सही नहीं है। क्योंकि झूठ अगर बच्चों की अगर आदत  बन जाए तो वो अपनी हर गलती को सही करने के लिए झूठ का सहारा लेंगे और वो इसे हर मुसीबत से निकलने का सेफ तरीका मानेंगे।  ऐसे में यह आपके ऊपर है कि कैसे अपने बच्चे को झूठ बोलने से बचाते हैं। इसके लिए सबसे पहले आपको अपने बच्चे का झूठ पकड़ना सीखना होगा।
हालांकि बच्चे बहुत सावधानी से झूठ बालते हैं लेकिन आप चाहें तो इन बातों को आधार बनाकर अपने बच्चे के झूठ को आसानी से पकड़ सकते हैं…
आगे…

आंखें चुराना
बच्चे जब झूठ बोलते हैं तो वो अपने पैरेंट्स से आंख नहीं मिला पाते हैं। अगर आपका बच्चा आपसे आंखें चुराकर बातें करता है तो आपके लिए यह संभलने का वक्त है।

आगे…
बातों का दोहराव
बच्चे जब झूठ बोलते हैं तो वे एक ही बात को बार-बार दोहराते हैं। उन्हें लगता है कि एक ही बात को बार-बार कहने से उनकी झूठी बात भी सच हो जाएगी।

यह भी पढ़ें…बच्चा आपका है, फिर इतना गुस्सा क्यों, तमीज और तहजीब से संवारे उसका बचपन

आगे…

व्यवहार में बदलाव
अगर आपको बच्चे के व्यवहार में बदलाव लगे  तो आप ये महसूस करें कि उसकी ज्यादातर बातें बनावटी होती हैं तो उस वक्त से आपको सतर्क होने की जरुरत है।

आगे…
बोलते समय अटकना
अगर आपका बच्चा बात करने के दौरान बार-बार अटकता है तो ये उसके झूठ बोलने की एक निशानी है।

आगे…

 

यह भी पढ़ें…कहीं आप तो नहीं अपने बच्चे की इस हालत के जिम्मेदार, रिसर्च में मिला है इसका प्रमाण


बार- बार पलकों का झपकना
अगर आपका बच्चा बात करने के दौरान बार-बार पलकें झपका रहा है और वह जरूरत से ज्यादा इशारे कर रहा है तो समझ लें कि वह झूठ बोल रहा है।