Lifestyle

आजकल के बढ़ती जनसंख्या की वजह से वातावरण में काफी बदलाव आ रहें हैं। त्योहारों के बाद तो और ज्यादा प्रदूषण फैलता दिखाई देता है।

कार्तिक  मास में स्नान दान का बहुत महत्व होता है। इस माह के शुक्ल पक्ष की नवमी को अक्षय नवमी कहते हैं। इस दिन को आंवला नवमी भी कहा जाता हैं। कहते हैं कि  इस दिन स्नान करने से अक्षय फल मिलता है। इस साल हिंदू पंचांग के अनुसार 5 नवंबर को अक्षय नवमी की पूजा है।

सामाजिक चिंता (Social anxiety) एक तरह की महामारी है। ये सोशल फोबिया के नाम से भी जाना जाता है। वास्तव में ये एक तरह का न उभरने वाले डर का गैर-मौजूदा फोबिया (non-existing phobia) है।

नवंबर का महीना शुरू हो चुका है और सर्दियां भी हल्की-हल्की शुरू हो चुकी हैं। ऐसे में अब लोगों का डेली रूटीन चेंज हो जाएगा। फिर चाहे बात खाने-पीने की हो या स्टाइल दिखाने की।

आज-कल की लाइफ काफी भाग-दौड़ वाली हो गयी है। किसी के पास अच्छे से सांस लेने तक का टाइम नहीं है। लोग अपनी प्रोफेशनल लाइफ में इतना बिजी है की उनके पास पर्सनल लाइफ के लिए टाइम ही नहीं है।

हम में से अधिकतर लोगों को रात में कुछ मीठा खाने की लालसा (craving) होती है और अगर आप वेट लॉस मिशन पर हैं तो आप अपने क्रेविंग्स को कंट्रोल करने के लिए फल का सहारा जरुर लेंगे।

प्रकृति पर्व छठ केवल सामान्य आस्था का पर्व ही नहीं है बल्कि व्यापक स्तर पर लोक आस्था का महापर्व है। छठ पर्व केवल बिहार और यूपी तक ही सीमित नहीं रहा है। छठ यानि लोक आस्था का यह पर्व अब देश-विदेशों में भी मनाया जाने लगा है। 31OCT: इन राशियों को मिलेगा उपहार, जानिए आज …

छठ पर्व सूर्य की उपासना का प्रकृति पर्व है। छठ ही एक ऐसा पर्व है जिसमें डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। छठ पर्व का व्रत बहुत कठिन होता है। मान्यता है कि छठ के 4 दिनों में सूर्यदेव और उनकी बहन छठी देवी की पूजा से व्रतियों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

हर जगह आज बड़े ही धूमधाम के साथ दिवाली मनाई जा रही है। लोग इस दिन अपने घर को बहुत अच्छे से सजाकर मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते हैं।

बिजली जाने पर जलायी जाने वाली मोमबत्तियों का फेस्टिवलस में सजावट और जगमगाहट के लिए उपयोग करने से इनका ट्रेंड बढ़ रहा है और इसी के चलते बाजारों में तरह-तरह के डिजाइनों के कैंडल्स आ रहे है।