इन तीन दोस्तों की दोस्ती क्यों है खास, जानिए इनकी YAANTRA के यात्रा की कहानी

तीन दोस्तों की कंपनी यांत्रा की यात्रा फोर्ब्स तक पहुंच चुकी है। Yaantra की स्थापना जयंत झा, अंकित सर्राफ और अनमोल गुप्ता नाम के तीन दोस्तों ने की। अपने छोटे से स्टार्टअप के बाद कुछ सालों का सफर तय करने के बाद ये कंपनी 132 करोड़ रूपये की हो गयी है

जयपुर : तीन दोस्तों की कंपनी यांत्रा की यात्रा फोर्ब्स तक पहुंच चुकी है। Yaantra की स्थापना जयंत झा, अंकित सर्राफ और अनमोल गुप्ता नाम के तीन दोस्तों ने की। अपने छोटे से स्टार्टअप के बाद कुछ सालों का सफर तय करने के बाद ये कंपनी 132 करोड़ रूपये की हो गयी है।

2012 में जयंत झा ने सिर्फ एक छोटे से आइडिया को अपने स्टार्ट अप की नींव रखी। उनका आइडिया था की मोबाइल खराब होने पर घरों में ही मोबाइल को ठीक करने की सर्विस दिया जाना। जिससे उपभोक्ताओं की आ रही परेशानियों से निजात मिले। पिछले सात सालों में कंपनी ने जो मुकाम हासिल किया है उसी वजह से जयंत को फोर्ब्स मैगजीन ने 30 अंडर 30 रीइन्वेंटिंग द वे वी शॉब कैटेगरी के लिए नामित किया है।

 

यह पढ़ें…घुसकर मारेंगे IBG: खतरनाक हैं ये लड़ाके, भारत-पाक सीमा पर होंगे तैनात

 

जयंत ने जब स्टार्ट अप के बारे में सोचा था तब उनकी उम्र 23 साल, अंकित की 24 और अनमोल की 25 साल थी। इन तीनों दोस्तों ने खुद  मेहनत और अपनी जमापूंजी लगाकर स्टार्ट अप शुरू किया था। आज देश के कई राज्यों में इनकी पहुंच हो चुकी है।

कंपनी मोबाइल रिपेयर के लिए इंजीनियर को घर पर भेज देती है और ग्राहक के मोबाइल को उनके घर पर ही ठीक करने की सर्विस देती है।

यांत्रा में 450 इंजीनियर, 150 लॉजिस्टिक सहित सैकड़ों स्किल्ड कर्मचारी हैं। जब उन्होंने ये शुरुआत की, तो एंड्रॉइड के लिए न्यूनतम फीस 300 रुपये और आईफोन के लिए 1,000 रुपये थी लेकिन आज ये 199 रुपये (एंड्रॉइड) और 300 रुपये (आईफोन) के लिए लेते हैं।

यह पढ़ें…स्वामी चिन्मयानंद केस: रेप पीड़िता की जमानत पर जल्द सुनवाई की अर्जी खारिज

जयंत यांत्रा के अलावा दूसरे स्टार्टअप के विकल्पों पर भी ध्यान दे रहे हैं ताकि देश की इतनी बड़ी जनसंख्या को उनके आइडिया से लाभ हो सके।

जयंत का मानना है कि किसी स्टार्टअप को शुरू करने से पहले उसकी उपलब्धता आंकना बहुत जरूरी है। इसके लिए मार्केट रिसर्च और स्ट्रेटजी बनाना बेहद आवश्यक है।