दीवाली पर रखेंगे इन बातों का ख्याल तो बना रहेगा इस दिन भी घर-आंगन में खुशियों का माहौल

diwali
लखनऊ: दीवाली का त्योहार रोशनी का त्योहार है जो अंधकार को मिटाकर प्रकाश लाता है। इस त्योहार में हर तरफ माहौल रोशन और उत्साह से लबरेज रहता है। हफ्तेभर पहले से घर में दीवाली का माहौल बन जाता है। छोटे-बड़े सब दीवाली की तैयारी में जुट जाते हैं। जहं बड़े साफ-सफाई में लगते है तो वहीं बच्चे पटाखों को लेकर क्रेजी हो जाते हैं। कई बार इस इसी क्रेजीपन में कई घटनाएं घट जाती है और दीवाली की खुशी गम में बदल जाती है। इसलिए दीवाली के इस त्योहार में हर काम के साथ सावधानी भी जरूरी है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें  क्या करें क्या ना ….
diwalis

ऐसे मनाए दीवाली, करों घरों की सफाई
दीवाली पर कुछ दिन पहले से ही घर और आसपास की सफाई कर लें। दीवाली पर छोड़े जाने वाले पटाखे बीमारी लाते है। इससे प्रदूषण बढ़ता है। ह्रदय रोगियों के लिए ये दिन और भी घातक होता है। इसलिए इन बातों का रखें खास ख्याल….
बचाएं आंखों को
दीवाली के दिन छोड़े जाने वाले पटाखों से हर साल हजारों लोग जख्मी होते हैं। आंखों को भी नुकसान पहुंचता है। कानों के सुनने की क्षमता भी खत्म होने लगती है। कहने का मतलब जो पटाखे इस दिन छोड़े जाते हैं , वो आंखों में अगर पड़ जाए तो आंखों की रौशनी भी जाने लगती है। बाजार में मिलने वाले पटाखें 100 डेसीबल से अधिक क्षमात के बिकते हैं।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें  सांस के मरीजों का खास ध्यान रखें…

saans

सांस में तकलीफ वाले लोग रखें खास ख्याल
पटाखों का कुछ पल का मजा माहौल को दूषित कर देता है। पटाखों में मौजूद बारुद जलने से नाइट्रोजन , सल्फर डाईआक्साइड में हानिकारक तत्व  रहता है। इससे अस्थमा , निमोनिया और ब्रांकाइटिस होने की संभावना बढ़ जाती है। फेफड़े संबंधी बीमारी भी होती है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें  दीवाली पर हार्टे के मरीजों का खास ख्याल….
heart-attcks

हार्ट के मरीज रखें ख्याल
पटाखों की आवाज से उम्रदराज लोगों को ब्लड प्रेशर, दिल का दौरा पड़ सकता है। अनिद्रा, सिरदर्द भी होता है। प्रेग्नेंट लोगों को भी इस दौरान खास यान रखना चाहिए। नहीं तो गर्भ में पल रहे बच्चे को नुकसान होने की संभावना बनी रहती है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें  दीवाली पर बच्चों को रखेंं दूर…
child

बच्चों को रखें पटाखों से दूर
पटाखों को छोड़ते हुए बच्चों को दूर रखें। उन्हें फूलझड़ियां या छूरछुरी ही दें। पटाखें खाली जगह पर ही छोड़ें। कांच की बोतल या टीन के डिब्बे का इस्तेमाल ना करें।
आगे की स्लाइड्स में पढ़ें  क्यों ना खाएं मिठाई…

mithais

 घर पर बनी मिठाई ही खाएं
दीवाली पर बाजार की मिठाईयों को अवॉयड करें और घर पर बनी ही मिठाई खाए। क्योंकि बाहर की मिठाई मिलावटी होती है। उसपर जो चांदी की परत चढ़ी होती है वो नुकसानदेह होता है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें क्या खाएं दीवाली के दिन….
diwalis3

क्या खाएं क्या ना खाएं
दीवाली पर ऑयली खाने से परहेज करें पर क्या करें। फेस्टिव सीजन में खाने का बहुत क्रेज होता है। बहुत सारे पकवान बनते हैं। लेकिन अगर उन पकवानों में भी कुछ बातों का ख्याल रखा जाए तो आपको हेल्थ प्रॉब्लेम नहीं होगी। इस दिन बादाम, अखरोट को भोजन में शामिल करें।अगर कचौड़ी प्रेमी है तो दाल, मुंगदाल हरे पत्तेदार सब्जियों के कचौड़ी बना सकते हैं।