यहां महिलाओं के लिए पीरियड्स है अभिशाप, प्रथा के अनुसार रहती है घर से बाहर

जयपुर: जब से सिल्वर स्क्रीन पर पैडमैन फिल्म आने को तैयार है। इसको लेकर चर्चा का बाजार गर्म है। वैसे ये यह फिल्म महिलाओं को होने वाले पीरियड्स को लेकर बनाई गई है जिसपर आज भी लोग खुलकर चर्चा करने को तैयार नही है। लेकिन इस फिल्म में इस विषय को ना सिर्फ उठाया गया है, बल्कि हर इस दौरान महिलाओं को किन परेशानियों से गुजरना पड़ता है उसकी भी चर्चा की गई है और जागरुक करने की भी कोशिश की गई है। पीरियड्स महिलाओं में होने वाली आम समस्या है। पीरियड्स के समय महिलाओं को काफी साफ-सफाई के साथ खान-पान का ध्यान रखना चाहिए।

यह पढ़ें…पीरियड्स को लेकर बॉलीवुड के मेल-फीमेल स्टार्स की है ऐसी सोच, जो कर देगी हैरान

लेकिन जरा सोचिए अगर पीरियड्स के दिनों में जब महिलाओं से छुआछूत जैसा व्यवहार किया जाए। या फिर 7-10 दिन के लिए घर से बाहर किसी जंगल में भेज दिया जाए, तब आप क्या करेंगी। थोड़ी हैरानी होगी, लेकिन यह सच है। दुनिया में कुछ जगह ऐसी हैं, जहां पीरियड्स के दिनों में महिलाओं को अपने ही घरों से निकाल दिया जाता है। नेपाल के कुछ इलाके ऐसे हैं, जहां के लोग इसे फॉलो करते हैं। यहां महिलाओं को पीरियड्स के दिनों में घर से निकाल दिया जाता है।

 

पीरियड्स के दिनों में महिलाओं को घरों से बाहर किया जाता है। यहां की इस प्रथा को छौपाड़ी कहते हैं। इस प्रथा के अनुसार शादीशुदा महिलाओं को पीरियड्स में एक दिन के लिए और अविवाहित लड़कियों को तकरीबन एक हफ्ते तक घरों से बाहर रहने के लिए कहा जाता है। पश्चिमी नेपाल में अछम नाम के जिले और धमीलेख में आज भी यह प्रथा मानी जाती है। इस दौरान महिलाएं अपने घरों से बाहर किसी बाहरी झोपड़ी या अस्थाई जगहों पर रहती हैं।

इस दौरान महिला घर में वापस नहीं आ सकती हैं ।किसी मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकती। महिला किसी तालाब या सार्वजनिक नल से पानी भी नहीं भर सकती।खाना नहीं बनाने दिया जाता है। नहाने के लिए गांव के पानी का इस्तेमाल नहीं कर सकती। टॉयलेट का इस्तेमाल नहीं कर सकती। महिलाओं को दूर खेतों में जाना पड़ेगा। चार दिन बाद गाय के मूत्र से शुद्ध होना पड़ता है। कानूनी तौर से इस प्रथा पर बैन लगा दिया गया है, लेकिन फिर भी लोग इसे मानते हैं। इस प्रथा को करवाने पर सजा का भी प्रावधान है।

यह पढ़ें…इन घरेलू नुस्खों से पीरियड्स के उन दिनों की मुश्किलों से पाएं राहत

 

यहां के स्थानीय लोगों का मानना है कि पीरियड्स के दौरान महिलाएं अगर घरों में रहती हैं, तो कुछ अशुभ होगा। उनके घर में रहने से भगवान गुस्सा हो जाएंगे। इतना ही नहीं, अशुभ में किसी की मौत भी हो सकती है। इसके अलावा लोग यह भी मानते हैं कि अगर महिला पीरियड्स के दौरान किसी गाय को छू देगी, तो गाय दूध नहीं देगी।  इस दौरान कई महिलाओं की मौत भी हो जाती है।।