Top

Election: मायावती के बयान पर आगबबूला भाजपा

प्रदेश महामंत्री विद्यासागर सोनकर ने कहा कि मायावती द्वारा आगे भी इसी प्रकार की भाषणबाजी करके चुनाव का माहौल खराब करने व धार्मिक उन्माद फैलाने की पूरी संभावना है इसलिए चुनाव आयोग तत्काल कदम उठाये। उन्होंने दावा किया कि एक बार फिर से जाति, धर्म और तुष्टीकरण के सहारे जीत का स्वप्न देख रहीं मायावती के हाथ हार ही लगेगी।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 9 April 2019 3:49 PM GMT

Election: मायावती के बयान पर आगबबूला भाजपा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव आयोग से बसपा सुप्रीमो मायावती के भाषणों पर पूर्णतया प्रतिबंध लगाने की मांग की है। भाजपा ने मायावती के खिलाफ उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग करते हुए आरोप लगाया है कि मायावती द्वारा मुस्लिमों को एकतरफा गठबंधन के पक्ष में मतदान करने की अपील की गई है।

ये भी पढ़ें— पांचवें चरण चुनाव के लिए नामांकन कल से, निघासन वि. उपचुनाव में 7 नामांकन पत्र दाखिल

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं प्रदेश चुनाव प्रबंधन प्रभारी जेपीएस राठौर ने कहा कि मायावती द्वारा देवबंद में दिया गया बयान जन प्रतिनिधित्व अधिनियम भारतीय दण्ड संहिता व आदर्श चुनाव संहिता का खुला उल्लंघन है।

राठौर ने बताया कि मुख्य चुनाव अधिकारी से भाजपा प्रतिनिधि मण्डल ने मुलाकात की और चुनाव अधिकारी को मामले से अवगत कराया। मायावती के विरूद्ध समुचित धाराओं में मुकदमा पंजीकृत करने और उनके भाषणों पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि सपा-बसपा-रालोद का गठबंधन अवसरवादी दलों का गठबंधन है। जाति, धर्म और विद्वेश की राजनीति के साथ सत्ता हथियाना चाहते हैं।

ये भी पढ़ें— एसपी-बीएसपी और कांग्रेस का भरोसा अली तो हमारा भरोसा बजरंगबली में- योगी

प्रदेश महामंत्री विद्यासागर सोनकर ने कहा कि मायावती द्वारा आगे भी इसी प्रकार की भाषणबाजी करके चुनाव का माहौल खराब करने व धार्मिक उन्माद फैलाने की पूरी संभावना है इसलिए चुनाव आयोग तत्काल कदम उठाये। उन्होंने दावा किया कि एक बार फिर से जाति, धर्म और तुष्टीकरण के सहारे जीत का स्वप्न देख रहीं मायावती के हाथ हार ही लगेगी।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story