Top

2 अक्‍टूबर तक इस जिले के 81 गांव होंगे खुले में शौच से मुक्त, कार्य युद्धस्‍तर पर जारी

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 1 Sep 2018 12:56 PM GMT

2 अक्‍टूबर तक इस जिले के 81 गांव होंगे खुले में शौच से मुक्त, कार्य युद्धस्‍तर पर जारी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: नोएडा विकास प्राधिकरण के द्वारा स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 में प्रतिभाग किया जा रहा है। इसके लिए यह निर्णय लिया गया है कि नोएडा विकास प्राधिकरण क्षेत्र के 81 गांवों को आगामी 2 अक्टूबर तक खुले में शौच मुक्त घोषित कर दिया जाए। इसको लेकर प्राधिकरण द्वारा तैयारियां की जा रही है। ऐसे में मुख्य कार्यपालक अधिकारी द्वारा निर्देशित किया गया कि इस कार्य की प्रत्येक शनिवार को अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी राकेश कुमार मिश्र की अध्यक्षता में साथ ही प्रत्येक दिन राजेश कुमार सिंह विशेष कार्याधिकारी नोएडा द्वारा खुले में शौच मुक्त कार्यक्रम की समीक्षा की जाएगी। इस क्रम में शनिवार को मुख्य कार्यपालक अधिकारी द्वारा खुले में शौच मुक्त की अब तक की प्रगति की समीक्षा की गई साथ ही दिशा निर्देश दिए गए।

बूट मॉडल पर बने हैं 22 शौचालय

वर्तमान में कुल 84 शौचालय के लिए निविदा आमंत्रित की गई थी। जिनमें से अब तक 22 शौचालय निर्मित हो चुके हैं। 22 शौचालय निमार्णाधीन है साथ ही अन्य 40 शौचालयों पर कार्यवाही प्रगतिशील है। प्राधिकरण ने खुले में शौच से मुक्त हेतु तथा स्वच्छता सर्वेक्षण हेतु केपीएमजी को सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया है। सलाहकार संस्था द्वारा प्राधिकरण क्षेत्र में उक्त 22 एवं 84 स्थानों के अतिरिक्त कुल 45 क्षेत्र चिन्हित किए गए हैं यानी कुल 45 स्थल ओडी डिपोट के रूप में चिन्हित किए गए हैं। प्राधिकरण ने इस संबंध में यह निर्णय लिया ही है कि इन 45 ओडी डिपोट पर पोर्टेबल शौचालय बनाए जाएं। इन स्थलों पर प्री डिपोट फेब्रिकेटर पोर्टेबल शौचालय हेतु निविदा दाता संस्था इनवियो एनर्जी को कायार्देश निर्गत कर दिया गया है। 45 ऑडी स्‍पॉट की सूची भी संलग्न की जा रही है। मुख्य कार्यपालक अधिकारी द्वारा यह निर्देशित किया गया कि इन 45 स्थानों की सूची आम नागरिकों को उपलब्ध करा दी जाए। जिससे यदि उनको लगता है कि इन स्थलों के अतिरिक्त कुछ अन्य स्थल भी हैं जहां प्राधिकरण को सार्वजनिक शौचालय या सामुदायिक शौचालय बनाने की आवश्यकता है, तो वह उसे समय से सूचित कर सकें।

शनिवार को हुई बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि जिन नोएडा निवासियों के पास व्यक्तिगत शौचालय नहीं है और उनके पास व्यक्तिगत शौचालय बनाए जाने हेतु उनकी स्वयं की भूमि उपलब्ध है। इस हेतु सार्वजनिक सूचना प्रकाशित कर आवेदन पत्र आमंत्रित किए जाएंगे।

कंट्रोल रूम रखेगा नजर

भारत सरकार के मानक के अनुसार, भारत सरकार द्वारा नियत की गई धनराशि की सीमा में उनको शौचालय बनाए जाने हेतु प्राधिकरण द्वारा धनराशि उपलब्ध करा दी जाएगी। यह भी निर्देशित किया गया है कि जन स्वास्थ्य विभाग के सेक्टर-39 स्थित कार्यालय में खुले में शौच मुक्त हेतु एक कंट्रोल रूम बनाया जाए इसी प्रकार स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 हेतु भी एक कंट्रोल रूम बनाया जाए तथा हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया जाए हेल्पलाइन नंबर अलग से दिया जा रहा है।

जारी किया गया हेल्प लाइन नंबर

खुले में शौच मुक्त बनाने व स्वच्छ सर्वेक्षण के लिए नोएडा प्राधिकरण द्वारा हेल्प लाइन नंबर जारी किया गया है। इन नंबरों पर फोन कर स्वच्छता से जुड़ी समस्याओं को बताया जा सकता है। यह नंबर 7599003662 व 9897969548 हैं। इन नंबरों पर शिकायत के साथ ही इनका निस्तारण भी किया जाएगा।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story