बाप रे बाप: अमेरिका से आये ग्रुप में इतने लोग पाए गए कोरोना पॉजिटिव

अमेरिका से आए सभी यात्रियों को पंचकूला में क्वारनटीन किया गया है। और इलाज चल रहा है। संपर्क में आए लोगों को भी क्वारनटीन कर दिया गया है। गौरतलब है कि अमेरिका से ये सभी भारतीय 19 मई को देश पहुंचे थे।

Published by SK Gautam Published: May 24, 2020 | 2:05 pm
Modified: May 24, 2020 | 7:39 pm

नई दिल्ली: विदेश से अपने नागरिकों को बुलाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा चलाये गए ‘वंदे भारत मिशन’ के तहत अमेरिका से हरियाणा लौटे 73 लोगों में से 21 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। जिसमें अभी 2 यात्रियों की रिपोर्ट संदिग्ध है। इसकी जानकारी पंचकूला की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर जसजीत कौर ने दिया है।

बता दें कि अमेरिका से आए सभी यात्रियों को पंचकूला में क्वारनटीन किया गया है। और इलाज चल रहा है। संपर्क में आए लोगों को भी क्वारनटीन कर दिया गया है। गौरतलब है कि अमेरिका से ये सभी भारतीय 19 मई को देश पहुंचे थे।

अमेरिका कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देश है

जिन यात्रियों की रिपोर्ट कोरोना निगेटिव है, उन्हें भी क्वारनटीन किया गया है। स्वास्थ्य विभाग उन पर नजर बनाए हुए है। 14 दिनों तक क्वारनटीन रहने के बाद ही उन्हें घर जाने दिया जाएगा। अमेरिका कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देश है, ऐसे में वहां से आए लोगों पर स्वास्थ्य विभाग नजर रख रहा है।

ये भी देखें: आग से दहला यूपी: धूँ-धूँ कर जल गया पूरा मकान, दमकल की गाड़ियां करती रहीं काबू

हरियाणा कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,067

हरियाणा में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,067 हो गई है। कोरोना से ठीक हो चुके लोगों की संख्या 706 है, वहीं हरियाणा में 16 लोगों की मौत हो गई है।

 

वंदे भारत मिशन का दूसरा चरण भी शुरू

विदेश में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए सरकार ने वंदे भारत मिशन चलाया था। वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण की शुरुआत हो चुकी है। यह मिशन 17 मई से 3 जून यानी 18 दिन तक चलेगा।

ये भी देखें: कोरोना का ज्वालामुखी: इस क्षेत्र का हुआ बुरा हाल, मजदूरों का आगमन भयावह रहा

हर देश से लाये जा रहे हैं भारतीय नागरिक

इस चरण में अमेरिका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर समेत 31 देशों में फंसे लोगों को स्वदेश लाया जा रहा है। ये वो देश हैं, जो बड़े स्तर पर कोरोना संक्रमण का शिकार हो रहे हैं। ऐसे में यहां से आने वाले यात्रियों में कोरोना संक्रमण होने का खतरा सबसे ज्यादा है।