अमेठी स्पेशल : ऐसे सरकार और उसके पिछलग्गूओं के आगे नतमस्तक होती नौकरशाही

नौकरशाही किस तरह सरकार और उसके पिछलग्गूओं के आगे नतमस्तक होती है इसका अंदाज़ा कांग्रेस उपाध्यक्ष के अमेठी दौरे और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष के होने वाले दौरे से लगाया जा सकता है।

अमेठी स्पेशल : ऐसे सरकार और उसके पिछलग्गूओं के आगे नतमस्तक होती नौकरशाही

असगर नकी
अमेठी:
नौकरशाही किस तरह सरकार और उसके पिछलग्गूओं के आगे नतमस्तक होती है इसका अंदाज़ा कांग्रेस उपाध्यक्ष के अमेठी दौरे और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष के होने वाले दौरे से लगाया जा सकता है। 7 दिन पहले दुर्गा प्रतिमाओं को विसर्जित किए जाने की आड़ लेकर जो प्रशासन राहुल गांधी के दौरे को सुरक्षा व्यवस्था मुहैया न करा पाने की बात कहकर टालने को कह रहा था, अब वही प्रशासन सत्ताधारी दल के नेताओं के प्रोग्राम को लेकर बलिहारी दिख रहा है।

यह भी पढ़ें …. अमेठी में राहुल गांधी बोले- UPA के काम का क्रेडिट लेने में जुटे हैं BJP नेता

डीएम ने मातहतों के साथ किया कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण
अमेठी के कौहार सम्राट साइकिल के बगल प्रागंण में 10 अक्टूबर को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का एक दिन का दौरा होना है। जिसको लेकर डीएम योगेश कुमार, एसपी श्रीमती पूनम ने मातहतों के साथ कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया। डीएम ने मातहत अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि कार्यक्रम की तैयारियों को लेकर जिसे जो भी कार्य सौंपे गए हैं, वो कार्यक्रम के एक दिन पहले उसे पूरा कर लें।

कार्यक्रम स्थल पर इस तरह की है तैयारी
डीएम ने कार्यक्रम स्थल पर पहुंचकर हेलीपैड, पार्किंग, मंच, टॉयलेट, पीने का पानी, बिजली, चिकित्सा सहित समस्त व्यवस्थाओं का जायजा लिया और अधिकारियों को उचित दिशा-निर्देश दिए। उन्होने मुख्य चिकित्सा अधिकारी, प्रभागीय वनाधिकारी, अधिक्षण अभियंता विद्युत, सूचना अधिकारी सहित समस्त अधिकरियों को निर्देशित करते हुए कहा कि कार्यक्रम स्थल पर समस्त व्यवस्थाएं चुस्त दुरस्त रखी जाएं।

यह भी पढ़ें …. राहुल गांधी को जाना था अमेठी दौरे पर, जिला प्रशासन ने नहीं दी इजाजत

जिला प्रशासन ने की थी दौरा टालने की मांग
राहुल के दौरे की तारीख तय होने के बाद जिला प्रशासन ने कांग्रेस से सिक्योरिटी का हवाला देकर इसे 5 अक्टूबर के बाद रखने को कहा था। प्रशासन का कहना था, जिन इलाकों में राहुल का दौरा है, वहां दशहरे के बाद भी देवी दुर्गा की मूर्तियों का विसर्जन होता रहता है। ऐसे में, सिक्योरिटी देने में मुश्किल होगी।

दौरा टालने पर कांग्रेस ने उठाए थे सवाल
राहुल का दौरा टालने की इस गुजारिश पर कांग्रेस ने सवाल उठाए थे। पार्टी के प्रवक्ता और वरिष्ठ नेता अखिलेश प्रताप सिंह ने कहा था, “अमेठी और रायबरेली राहुल गांधी का घर है, वे वहां जरूर जाएंगे। बीजेपी इस वक्त बुरे दौर से गुजर रही है। इसलिए मोदी और योगी राहुल गांधी को यूपी नहीं आने देना चाह रहे हैं।” सिंह ने आगे कहा, वे जानते हैं कि राहुल ईमानदार हैं और जनता की आवाज को जरूर उठाएंगे, इसलिए अमेठी जिला प्रशासन फोर्स की कमी का बहाना बना रहा है। बीजेपी नहीं चाहती है कि राहुल जनता की आवाज बनें। लेकिन उन्हें अपने घर आना है चाहे जिला प्रशासन अनुमति दे या ना दे।

यह भी पढ़ें …. राहुल के खिलाफ किसानों ने खोला मोर्चा, बोले- कांग्रेस ने अमेठी के लिए कुछ नहीं किया

स्वयं राहुल ने ट्वीट पर ऐसे ज़ाहिर की थी नाराज़गी
उधर प्रशासन के इस दोहरे चेहरे से स्वयं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी नाराज़ हुए थे, और अपनी इस नाराज़गी को उन्होंने ट्विटर पर जाहिर किया था। गांधी ने प्रदेश की योगी सरकार द्वारा ताजमहल को पर्यटन सूची से हटाए जाने को निशाना बनाते हुए मंगलवार 3 अक्टूबर को ट्वीट किया था। इस ट्वीट में उन्होंने योगी सरकार को लिखा था ‘अंधेर नगरी चौपट राजा’।