राष्ट्रपति चुनाव : बीजेपी के निर्णय बाद फैसला लेगा विपक्ष, शिवसेना कर सकती है विरोध

Published by Rishi Published: June 9, 2017 | 3:00 pm
Modified: June 9, 2017 | 3:04 pm

चेन्नई : द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के कार्यकारी अध्यक्ष एम.के. स्टालिन ने शुक्रवार को कहा कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा उम्मीदवार की घोषणा करने के बाद विपक्षी पार्टियां राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपने संयुक्त उम्मीदवार पर फैसला करेंगी।

ये भी देखें :राष्ट्रपति चुनाव: क्रॉस वोटिंग हुई तो गड़बड़ा सकते हैं एनडीए और विपक्ष के समीकरण

स्टालिन ने संवाददाताओं से कहा, “कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सभी विपक्षी पार्टियों की एक बैठक बुलाई थी और इसमें केंद्र की सत्तारूढ़ भाजपा की घोषणा के बाद निर्णय लेने का फैसला किया गया है।”

स्टालिन ने कहा कि भाजपा का राष्ट्रपति उम्मीदवार तय होने के बाद विपक्षी पार्टियां अपने संयुक्त उम्मीदवार पर फैसला करेंगी। राष्ट्रपति चुनाव 17 जुलाई को होना है।

हमें खबर मिल रही है, कि इस बार भी राष्ट्रपति चुनाव में शिवसेना राजग प्रत्याशी को समर्थन नहीं करने वाली है। 2012 और 2007 में सेना ऐसा कर चुकी है।

शिवसेना चाहती है,कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत राष्ट्रपति का चुनाव लड़े, और बीजेपी उनका समर्थन करे। लेकिन मोहन पहले ही इससे इंकार कर चुके हैं।