योगी सरकार अब पुलिस अफसरों पर भी सख्त, संभल के SP-ASP को हटाया गया, जानें क्यों?

Published by aman Published: April 6, 2017 | 12:46 pm
Modified: April 6, 2017 | 12:48 pm
योगी सरकार अब पुलिस अफसरों पर भी सख्त, संभल के SP-ASP को हटाया गया, जानें क्यों?

लखनऊ: यूपी में योगी आदित्यनाथ के सत्ता संभालने के बाद अब पुलिस अफसरों के खिलाफ कार्रवाई का सिलसिला भी जारी है। ताजा कार्रवाई के तहत एसपी और एएसपी संभल को हटा दिया गया है।

संभल में अवैध बूचड़खाना बंद करने गए पुलिस फ़ोर्स पर हुए हमले के बाद अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई थी। इस मामले में नायब तहसीलदार और इंस्पेक्टर नख़ासा की तहरीर पर नखासा में मुक़दमा दर्ज कराया गया था। बावजूद इसके अब तक गिरफ्तारी नहीं हो सकी। उच्च स्तर पर नाराज़गी के चलते दोनों अफसरों को हटा दिया गया। बता दें, कि इससे पहले आईपीएस हिमांशु कुमार पर योगी सरकार ने कार्रवाई की थी।

ये भी पढ़ें …‘योगी युग’ में पहली बड़ी कार्रवाई, IPS हिमांशु कुमार निलंबित, लगाए थे ये गंभीर आरोप

ये बने नए एसपी और एएसपी
यूपी सरकार ने एसपी संभल बालेन्दु भूषण सिंह और एएसपी राम मूरत यादव को हटा दिया है। उनकी जगह रविशंकर छवि को एसपी और पंकज कुमार पांडेय को संभल का नया एएसपी बनाया गया है।

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर …

ये था मामला
बीते दिनों अवैध बूचड़खाने बंद कराने गए पुलिस और प्रशासन के लोगों को स्थानीय व्यापरियों ने घेरकर लहू-लुहान कर दिया था। इस हमले में एक पुलिस सब इंस्पेक्टर समेत 3 कर्मचारी घायल हो गए थे। इलाक़ाई नायब तहसीलदार और इंस्पेक्टर नखासा की तहरीर नख़ासा कोतवाली में दी गई। दो लोगों के खिलाफ मुक़दमा दर्ज कराया गया था। लेकिन पुलिस एक भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी। पुलिस अफसरों की इस कार्यशैली से उच्च स्तर पर बेहद नाराज़गी थी। इसी के चलते दोनों अधिकारियों को हटा दिया गया।

आरोपियों की गिरफ्तारी की बन रही रणनीति
पुलिस अफसरों पर गिरी गाज के बाद कमिश्नर मुरादाबाद वेंकेटेश्वर लू और डीआईजी मुरादाबाद ओंकार सिंह संभल पहुंच गए हैं। ज़िले भर के पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मीटिंग कर आरोपियों की गिरफ्तारी की नए सिरे से रणनीति तैयार कर रहे है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App