इस गांव में सिर्फ वोट मांगने आते हैं नेता, आजादी के बाद आज भी नहीं बिजली-सड़क

Published by July 12, 2017 | 12:10 pm

हरदोई: एक तरफ जहां आज देश प्रति के रास्ते पर बढ़ रहा है, वहीं यूपी में एक ऐसा भी गांव भी है, जहां आजादी के बाद से आज तक कोई विकास नहीं हुआ है। जहां मानो सुविधाओं का अकाल पड़ा हुआ है। सूबे की योगी सरकार ने भी अभी इस गांव की और कोई ध्यान नहीं दिया है।

यहां के लोग विकास के लिए आस लगाए बैठे हैं, लेकिन जनप्रतिनिधि सिर्फ दावे और वादे ही करके चले जाते हैं। ये गांव हरदोई शहर से लगभग 35 किलोमीटर दूर शाहाबाद विधानसभा का सिकन्दरपुर कलुआ है। जहां लगभग 2000 आबादी रहती है। यहां से इस बार बीजेपी से रजनी तिवारी पहली बार विधायक चुनी गई हैं।

रूबरू कराते हैं हरदोई के एक ऐसे गांव से, जिसमें आजादी के कई सालों के बाद भी ग्रामवासी बिजली और सड़क से महरूम हैं।बात कर रहे हैं जिला हरदोई के 155 विधानसभा शाहाबाद के नगरा सिकंदरपुर कल्लू गांव की, जो शाहाबाद से सिर्फ 4 किलोमीटर दूर है। ऐसा गांव जहां की आबादी लगभग 2000 लोगों की होगी। बुनियादों जरूरतों से उनको दो-चार होना पड़ रहा है। इस गांव में न ही सड़क है और ना ही आज तक बिजली पहुंची है।

आगे की स्लाइड में जानिए और कितनी बदतर है गांव की हालत

थोड़ी सी ही बरसात में इतना ज्यादा कीचड़ हो जाता है कि सड़के लोगों का पैदल निकलना भी मुश्किल हो जाता है। सड़कें दरिया में तब्दील हो जाती हैं। यहां के ग्रामीणों ने बताया कि बरसात के मौसम में इतना पानी भर जाता है कि जैसे किसी नदी को पार कर रहे हों। ग्रामीणों का कहना है कि एक बार बहुत पहले जब अशोक बाजपेई मंत्री थे, तो उन्होंने सड़क पर पत्थर डलवा दिए थे। लेकिन रोड नहीं बना था। उसके बाद वह पत्थर वहां से गायब हो गए और फिर जस के तस रोड हो गया। गांव का एकमात्र प्राथमिक विद्यालय जहां पर बाउंड्री वाल भी नहीं है।

स्कूल में जो शौचालय बनी हुई है उसमें सिर्फ दीवार ही खड़ी हुई है और दरवाजा लगा हुआ है। शौच लिए सीटें तक नहीं है। हालांकि अभी एक महीने पहले खंबे जरूर आ गए हैं, लेकिन अभी उसमें तार नहीं पड़े हैं। ग्रामीण उस दिन की उम्मीद में हैं कि कब उन खंबों में तार डाले जाएंगे और बिजली चालू होगी? ग्रामीणों ने बताया जब इलेक्शन आते हैं, जनप्रतिनिधि यहां पर आते हैं, बड़े-बड़े वादे करते हैं। कहते हैं कि हम को वोट दो, तो हम बिजली और सड़क बनवा देंगे। लेकिन जीतने के बाद कोई दोबारा लौटकर नहीं आता है।

ग्रामीणों का कहना है कि विधायक रजनी तिवारी इलेक्शन से पहले हमारे गांव में आई थी, उन्होंने हम लोगों से वादा किया था की अगर आप हम को वोट देंगे, तो हम आपको बिजली और सड़क देंगे। पर जीत के बाद कोई व्यवस्था नहीं हुई। ग्रामीणों में बहुत आक्रोश है। ग्रामीण अमरीश दिलीप कुमार चेतराम ने बताया कि अगर अबकी बार इस सरकार में बिजली और रोड नहीं बना, तो हम लोग वोट नहीं देंगे चुनाव का बहिष्कार करेंगे।