Opinion

तुलनात्मक रूप से मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह मजबूत और स्थिर नेतृत्व के केंद्रित संदेश और नए भारत के वादे के साथ जहां मजबूत दिख रहे हैं वहीं विपक्षी एकजुटता की कहानी बहुत विविध और खंडित लगती है।

पूर्वकाल में ब्राह्मण होने के लिए शिक्षा, दीक्षा और कठिन तप करना होता था। इसके बाद ही उसे ब्राह्मण कहा जाता था। ब्राह्मण के लिए कहा जाता था कि ब्राह्मण की विद्या कंठ में

जयपुर :धरती को प्रदूषण मुक्त रखने के उद्देश्य से ही वर्ल्ड अर्थ डे मनाया जाता है। हर साल के 22 अप्रैल के दिन धरती के हरियाली संपन्न करने के लिए सकंल्प लिया जाता है। भले ही इस संकल्प में हर कारगर ना हो, लेकिन हर साल वर्ल्ड अर्थ डे मनाना हम नहीं भूलते हैं। वर्ल्ड …

इस संबंध में वज्रसूचि उपनिषद महत्वपूर्ण है जिसमें अत्यन्त सारगर्भित जानकारी केवल नौ मंत्रों में दी गई है। यह उपनिषद सामवेद से संबंधित है। इसमें कुल नौ मंत्र हैं। इसमें सिर्फ इस प्रश्न पर विचार किया गया है कि ब्राह्मण कौन है। क्या ब्राह्मण जीव है ? शरीर है, जाति है, ज्ञान है, कर्म है, या धार्मिकता है ? आखिर कौन है ब्राह्मण।

कहते हैं राजनीति में न कोई स्‍थाई दोस्‍त होता है, न दुश्‍मन। यहां सब कुछ सिर्फ सत्‍ता का केंद्र ही होता है, चाहे वह दोस्‍ती हो या फिर दुश्‍मनी। लेकिन जब बात राजनीति की हो तो यह कहावत ज्यादा चरितार्थ हो जाती है।

कुछ समय पहले अमेरिका के एक शिखर के बेसबॉल खिलाड़ी, जो वहां के लोगों के दिल में स्टार की हैसियत रखते थे, पर अपनी पत्नी की हत्या का आरोप लगा। परिस्थितिजन्य साक्ष्य के अभाव में वह अदालत से बरी कर दिए गए जबकि जज पूरी तरह आश्वस्त थे कि कत्ल उसने ही किया है क्योंकि …

जयपुर: हर साल ईसाई समुदाय प्रभु ईसा मसीह की क्रूस पर बलिदान की वर्षगांठ को गुड फ्रायडे या शुभ शुक्रवार के रूप में मनाता है। इसके पहले के 40 दिनों में उपवास, ईश वचन पठन, त्याग व तपस्या करते  हैं।ईसा मसीह के यरुशलम में विजयी प्रवेश को खजूर रविवार के नाम से मनाया जाता है, …

जयपुर: बजरंगबली का जन्म चैत्र पूर्णिमा को  चित्र नक्षत्र व मेष लग्न के योग में हुआ था। हनुमानजी के पिता सुमेरू पर्वत के वानरराज राजा केसरी थे और माता अंजनी थी। हनुमान जी को पवन पुत्र के नाम से भी जाना जाता है और उनके पिता वायु देव भी माने जाते है। राजस्थान के सालासर …

जयपुर:  भगवान महावीर के जन्मदिन को महावीर जयंती के रूप में मनाया जाता है। इस बार महावीर जयंती 17 अप्रैल 2019, के दिन मनाई जा रही है। वर्धमान महावीर जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर थे।  इनका जीवन काल 511-527 ईस्वी ईसा पूर्व तक माना जाता है।इनका जन्म एक क्षत्रिय राजकुमार के रूप में चैत्र शुक्लपक्ष त्रयोदशी …

जयपुर: चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रत्येक तिथि का धर्मशास्त्रों में  विशेष महत्व है। इसकी प्रतिपदा से चैत नवरात्रि शुरू होती है। इस दौरान  नवरात्रि के साथ रामनवमी होने से महत्व दोगुना हो जाता है। कहा गया है कि त्रेता युग में इसी दिन मर्यादा पुरुषोत्म राम का जन्म हुआ था। रघुकुल शिरोमणि महाराज दशरथ और …