अफजाल ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा- सरकार मुख्तार के साथ कर रही भेदभाव

अफजाल ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा- सरकार मुख्तार के साथ कर रही भेदभाव

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के भाई अफ़ज़ाल अंसारी ने सरकार पर मुख्तार को जबरन एसजीपीजीआई से डिस्चार्ज कराने का आरोप लगाया है। अफ़जाल ने कहा, कि ‘एक तरफ जहां सरकार माफिया और एमएलसी बृजेश सिंह को सुविधाएं दे रही है। वहीं, बीमार मुख्तार अंसारी को इलाज भी नहीं मुहैया करा रही है। जबकि डॉक्टरों ने उन्हें बेड रेस्ट की सलाह के बावजूद सड़क मार्ग से बांदा जेल भेज दिया गया।’ उन्होंने आरोप लगाया, कि एसजीपीजीआई के डॉक्टरों पर दबाव डालकर मेडिकल रिपोर्ट में छेड़छाड़ की गई है।

इस दौरान मुख़्तार के परिजनों ने उनके साथ भेदभाव का आरोप लगाया। इसी संबंध में मुख़्तार के भाई अफजाल अंसारी ने लखनऊ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया। बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी के खिलाफ बड़ी साज़िश रची गई थी। बसपा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के भाई अफ़ज़ाल अंसारी ने आज एक के बाद एक कई गंभीर आरोप सरकार पर जड़े।

बृजेश सिंह को घर का खाना, मुख़्तार को…
अफजाल ने कहा, कि ‘एक तरफ बृजेश सिंह को 365 दिन घर से खाना बनवाकर भेजा जा रहा है। और उन्हें उनके घर वाराणसी में ही हॉस्पिटल में रखा गया है। वहीं, मुख्तार अंसारी को डॉक्टरों की सलाह के बावजूद सड़क मार्ग से बांदा जेल ले जाया गया। जबकि डाक्टरों ने सड़क मार्ग से यात्रा के लिए मनाही करते हुए बेड रेस्ट की सलाह दी थी।’

बीमार शख्स को दौड़ा-दौड़ा कर ही मार डालेंगे
अफजाल ने कहा, कि हमने मुख्यमंत्री से फोन पर बात की हमने उनसे कहा था कि आप सदन के नेता हैं और मुख्तार अंसारी विधानसभा के सदस्य हैं। उनके प्राणों की रक्षा करिए। उन्होंने मदद का भरोसा दिलाया। अस्पताल में सरकार परिवार के किसी भी सदस्य को नही मिलने दे रही थी। मैं भी नहीं मिल पाया। उन्होंने कहा, कि मुख्तार अंसारी इतनी दूर की जेल में क्यों रखा गया है। उन्होंने आशंका जताई कि लगता है। एक बीमार शख्स को दौड़ा-दौड़ा कर ही मार डालेंगे। अफ़ज़ाल बोले, कि ‘गरीबों और शुभचिंतकों की दवाओं ने मुख्तार अंसारी की जान बचा ली।’

अधिकारी और सत्ता में बैठे लोग रच रहे साजिश
अफ़ज़ाल ने आगे कहा, कि ‘हमें इंसानियत के नाते शीशे से भी झांकने की इजाज़त नहीं दी गई। सरकार में बैठे लोगों ने इतना दबाव बना दिया कि डॉक्टरों ने अपने मोबाइल नंबर तक बंद कर लिए।’ अफ़ज़ाल ने कहा कि मुलाक़ात के दिन सिर्फ पत्नी जेल के अंदर गईं थीं। उसी समय मुख्तार के मुंह से झाग निकला था। आंखें सफेद हो गई थी। ये बांदा के डॉक्टरों ने लिखकर भेजा की उन्हें हार्ट अटैक हुआ। उन्होंने कहा, कि ‘हम सीएम से मांग करते हैं। वह अपने इर्द-गिर्द रह रहे लोगों की जांच करें कि कौन लोग इस साजिश में शामिल हैं जिन्होंने बिना इलाज के ही मुख्तार अंसारी को डिस्चार्ज करा दिया।’

ये भी पढ़ें …मुख्तार अंसारी बाँदा जेल रवाना, PGI से डिस्चार्ज, परिजन नाराज