भारतीय रक्षामंत्री जेटली बोले: ‘मेक इन इंडिया’ में बड़ी भूमिका निभा सकता है रूस

Published by Published: June 22, 2017 | 10:41 am
Modified: June 22, 2017 | 3:28 pm
Arun Jaitley

नई दिल्ली: भारतीय रक्षामंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि भारतीय कंपनियों के साथ काम करने का लंबा अनुभव रखनेवाली रूसी कंपनियां ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम में प्रमुख भूमिका निभा सकती हैं। जेटली ने कहा, “हमने संयुक्त उद्यमों और भारतीय और विदेशी कंपनियों के बीच प्रौद्योगिकी साझेदारी और संयुक्त उद्यम की सुविधा के लिए नीति और प्रक्रियात्मक परिवर्तन की एक श्रृंखला की शुरुआत की है।”

जेटली ने 5वीं अंतर्राष्ट्रीय फोरम के प्रौद्योगिकी विकास ‘टेक्नोप्राम’ में अपनी सरकार के प्रमुख कार्यक्रम के बारे में कहा, “रूसी कंपनियों को पहले से ही भारत में काम करने और भारत के साथ काम करने का लंबा अनुभव है, जो इस प्रक्रिया में एक अग्रणी भूमिका निभाती हैं।”

जेटली ने रूसी कंपनियों को भारतीय कंपनियों में प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के प्रस्तावों के साथ आगे आने और अधिक उन्नत कंपोनेंट और सब-सिस्टम्स के निर्माण के संयंत्र स्थापित करने के लिए आमंत्रित किया।

जेटली ने कहा कि रक्षा उपकरणों के निर्माण के लिए औद्योगिक लाइसेंसिंग काफी उदार है और उत्पादन उपकरणों और परीक्षण उपकरणों के निर्माण के लिए सरकार से किसी प्रकार के लाइसेंस की आवश्यकता नहीं है।