25 सालों से तैयार किया भगवान गणेश की प्रतिमाओं का अनूठा संगठन 

नोएडा : विघ्नहरता भगवान गणेश की प्रतिमाओं का एक ऐसा अनूठा संगम जिसे कभी आपने न देखा होगा। यह संगम शहर के एक घर में देखने को मिला रहा है। मालिक ने घर को मंदिर में तब्दील कर दिया। वह ऐसा मंदिर जिसमे 25 राज्यों से अलग-अलग अनूठी गणेश प्रतिमाओं को रखा गया है। भगवान गणेश में आस्था का ऐसा प्रतीक सेक्टर-62 निवासी एस वेंकटेश्वर में देखने को मिला। वह विगत 25 सालों में जिस भी राज्य में गए वहां भगवान गणेश की अनूठी प्रतिमा दिखी उसे लेकर घर में स्थापित कर दिया। उनका कहना है कि गणपति हमेशा मेरे साथ रहते हैं और सारे विघ्न को हरते हैं।
25 सालों में तैयार किया ऐसा आस्था का केंद्र
एस वेंकटेश्वर पेशे से कॉपोर्रेट कन्सलटेंट का काम करते हैं। लेकिन भगवान गणेश में श्रद्धा होने की वजह से वह जहां कहीं भी जाते हैं। भगवान गणेश की अनूठी दिखने वाली मूर्ति ले आते हैं। उन्होंने बताया कि 25 साल पहले जब वह दिल्ली के मयूर विहार में रहते थे। उस समय श्री संकटहरा गणपति मंदिर जाया करते थे। धीरे-धीरे भगवान में श्रद्धा बढ़ती चली गई। मंदिर के भगवान  गणेश के प्रति उनकी आस्था भगवान को देखते हुए उन्हें मंदिर समिति में सदस्य बनाया गया। वर्तमान में मंदिर समिति में संस्थापक के पद पर हैं।
राष्ट्रपति से लेकर मुख्यमंत्र तक सबने किए दर्शन
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम, लाल कृष्ण आडवाणी, पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया जैसे कई बड़ी हस्तियों को मंदिर में भगवान गणेश के दर्शन करवा चुके हैं। इसी साल अप्रैल में सेक्टर 62 में श्री विनायक एवं श्री कार्तिकेय मंदिर की स्थापना की गई है। जहां यह संस्थापक सदस्य के रूप में अपनी सेवा दे रहे हैं।
आगे भी जारी रहेगा सिलसिला
उन्होंने बताया कि आस्था का यह सिलसिला निरंतर जारी रहेगा। वह आगे भी जिस राज्य में जाएंगे वहां अनूठी दिखने वाली गणेश भगवान  की प्रतिमा अपने साथ लेकर आएंगे। उन्होंने बताया कि इसके लिए वह बाजार जाकर एक खोजकर्ता की तरह कार्य करते है। आस्था इतनी गहरी है कि उन्हें भगवान  की अनूठी प्रतिमा मिल ही जाती है।