पशु खरीद-बिक्री: मेघालय के CM ने त्रिपुरा की माणिक सरकार को लिखा पत्र, जानिए क्या कहा

मेघालय के सीएम मुकुल संगमा ने त्रिपुरा की माणिक सरकार को पत्र लिखकर पशु व्यापार और पशुवध के लिए केंद्र सरकार के नए कानून के खिलाफ एकजुट होने का आग्रह किया।

पशु खरीद-बिक्री: मेघालय के CM ने त्रिपुरा की माणिक सरकार को लिखा पत्र, जानिए क्या कहा

पशु खरीद-बिक्री: मेघालय के CM ने त्रिपुरा की माणिक सरकार को लिखा पत्र, जानिए क्या कहा

शिलांग: मेघालय के सीएम मुकुल संगमा ने त्रिपुरा की माणिक सरकार को पत्र लिखकर पशु व्यापार और पशुवध के लिए केंद्र सरकार के नए कानून के खिलाफ एकजुट होने का आग्रह किया। संगमा ने शुक्रवार रात लिखे अपने पत्र में कहा कि पशुओं के प्रति क्रूरता रोकथाम (पशुधन बाजार विनियमन) नियम 2017 राज्य सूची की सूची-2 की विषय सामग्री नियमित करने के राज्यों के अधिकारों का उल्लंघन है।

संगमा के मुताबिक, “केंद्र को पशु बाजारों के नियमों में बदलाव संबंधी प्रस्ताव से पहले राज्यों से इस संदर्भ में चर्चा करनी चाहिए थी।” संगमा ने इस कदम को राज्यों के अधिकारों का पूर्ण उल्लंघन बताया जिसका सामूहिक रूप से विरोध किए जाने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें … पशु बिक्री बैन पर अपना फैसला वापस ले मोदी सरकार, नहीं तो मरीना बीच जैसा होगा प्रदर्शन

कांग्रेस नेता ने अपने पत्र में कहा, “राज्य सरकारों को इस तरह के कदम उठाने के लिए केंद्र सरकार को रोकना चाहिए, क्योंकि इस तरह के कदम देश के संघीय ढांचे को कमजोर करते हैं।” उन्होंने सहकारी संघवाद को बढ़ावा देने की बात भी कही।
पशु खरीद-बिक्री: मेघालय के CM ने त्रिपुरा की माणिक सरकार को लिखा पत्र, जानिए क्या कहा

मेघालय की विपक्षी पार्टी नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) की भी इस कदम पर अपनी सहयोगी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से अलग राय है और उसने इस फैसले को वापस लिए जाने की मांग की है।

इस बीच, लोकसभा में एनपीपी के एकमात्र सांसद कॉनराड के. संगमा ने पीएम नरेंद्र मोदी से इस मामले में हस्तक्षेप करने और पर्यावरण मंत्रालय को निर्देश देने का अनुरोध किया है कि वे लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए इस नए नियम को अधिसूचित नहीं करे।

यह भी पढ़ें … पशु खरीद-बिक्री पाबंदी: केंद्र के फैसले पर मद्रास हाईकोर्ट ने 4 हफ्तों की लगाई रोक

कॉनराड ने मोदी को लिखे खुले पत्र में कहा है कि पशु व्यापार पर बैन लगाने वाले नए कानून से लाखों लोगों की विशेषकर कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों और संबंधित उद्योगों के सामाजिक-सांस्कृतिक और आर्थिक परिवेश पर प्रभाव पड़ेगा।

–आईएएनएस

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App