योगी के मंत्री के बागी तेवर, कहा- मैं बिजनेस करने नहीं आया…

लखनऊ: अपने बयानों और अंदाज को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाले योगी सरकार के पिछड़ा वर्ग कल्‍याण एवं दिव्‍यांगजन सशक्तिकरण मंत्री ओम प्रकाश राजभर की अपनी पार्टी सुहेलदेव भारत समाज पार्टी का शनिवार को 16 वां स्‍थापना दिवस राजधानी में मनाया गया। इस मौके पर पूरे शहर में पार्टी के झंडों से लैस सैंकड़ों की संख्‍या में उनके समर्पित कार्यकर्ताओं का सैलाब उमड़ पड़ा। इस रैली में उनके बागी तेवर देखकर सत्‍ता पक्ष के लोग सकते में हैं।

ये भी देखें:सात समंदर पार भी दिखता है इन उंगलियों का जादू , नेहरू ने की थी तारीफ

मंत्री बोले- मैं बागी था, बागी रहूंगा

सुभासपा के स्‍थापना दिवस के अवसर पर मंत्री ओम प्रकाश राजभर बीजेपी से खासे नाराज नजर आए। उन्‍होंने कहा कि मैं किसी का गुलाम नहीं हूं। मैं गरीबों, पिछड़ों का गुलाम हूं। बागी हूं और बागी रहूंगा। मैं सच्चाई की बात करता हूं।

ये भी देखें:करवाचौथ पर एसपी ने महिला कर्मियों को दी इमरजेंसी लीव, आदेश वायरल

शिक्षा और शिक्षक भर्ती पर दिया जोर

मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने शिक्षा और शिक्षक भर्ती पर जोर देते हुए कहा कि प्राथमिक विद्यालय में 3.18 लाख पद खाली हैं। प्राथमिक विद्यालय में शिक्षा का स्तर खराब है। पहले प्राथमिक विद्यालय से डॉक्टर बनते थे। 3.18 लाख शिक्षकों की भर्ती होनी चाहिए। बेहतर पढ़ाने वाले शिक्षकों की सैलरी बढ़नी चाहिए। इस भर्ती के लिए कानून बनना चाहिए। सरकार मंदिर बनवाना चाहती है।  सरकार मंदिर-मस्जिद कर रही है। हमें शिक्षा चाहिए कि मंदिर-मस्जिद चाहिए, ये बात समझनी होगी। शिक्षा में सुधार की जरूरत है।  ‘शिक्षा में सुधार नहीं करोगे तो लफड़े में नहीं पड़ेंगे। आम्बेडकर साहब ने संविधान बनाया।   स्‍कूलों में डॉक्टर, मास्टर, कलेक्टर बनाने की कोशिश होनी चाहिए। विकास के लिए शिक्षा की जरूरत है।  मुझे मंदिर और मस्जिद नहीं चाहिए।

ये भी देखें:डिप्‍टी सीएम की खातिर छुड़वाई बच्‍चों की पढ़ाई, अधिकारियों ने जुगाड़ से जुटाई भीड़

शराब बंदी पर भी सुनाई दो टूक

मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि बिहार और गुजरात में शराब बंद है।  उत्तर प्रदेश में दो विभाग हैं। एक विभाग कहता है कि शराब मत पियो। वहीं यूपी में दूसरा विभाग आबकारी है। चाहे जहां ठेका खोल लो।  उत्तर प्रदेश में शराब बंद होनी चाहिए। मैं सत्ता के लिए नहीं आया हूं।  मैं बिजनेस करने नहीं आया हूं।  मैं काम करने के लिए आया हूं। पिछड़े लोगों की बात नहीं सुनी जा रही है।  पिछड़े जाति के आरक्षण के कोटे में 3 कैटगरी बनाएं। सीएम योगी और अमित शाह ने वादा किया था। चुनाव के पहले विभाजन का वादा शाह ने किया था। लेकिन सीएम योगी और अमित शाह वादा पूरा नहीं कर रहे। अब अधिसूचना जारी होने वाली है। अभी तक वादा पूरा नहीं हुआ। इसलिए नाराज हूं।